जासं, सोनभद्र : बाल कल्याण समिति व जिला बाल संरक्षण इकाई की संयुक्त बैठक विकास भवन में हुई। इस दौरान बाल विवाह निषेध अधिनियम के क्रियांवयन व बाल विवाह के रोकथाम जागरूकता कार्यक्रम पर विस्तार से चर्चा की गई। बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष महताब आलम ने कहा कि नाबालिग बालक-बालिकाओं का विवाह, बाल विवाह निषेध अधिनियम का उल्लंघन है। ऐसा करने वाले एवं उसमें सहयोग करने वालों के विरुद्ध दो वर्ष के कारावास व एक लाख रुपये तक का जुर्माना का प्रावधान है। इस मौके पर उमेश कुमार पाठक, अविनाश कुमार, अशोक पांडेय, रोमी पाठक, शेषमणि दुबे, सुधीर कुमार शर्मा आदि रहे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran