जागरण संवाददाता, सोनभद्र : चतरा ब्लाक के लेड़ुआ गांव के ग्रामीणों ने धंधरौल बांध के डूब क्षेत्र में खेती के लिए दिए गये पट्टा में अनियमितता का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। गरीबों ने पट्टा प्रकरण की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने व भूमिहीन निराश्रित व गरीबों को पट्टा दिए जाने की मांग की है।

कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन करने वाले लेड़ुआ गांव के भूमिहीनों का कहना है कि धंधरौल बांध के डूब क्षेत्र में स्थित भूमि को गरीबों को जीवन यापन करने के लिए पांच वर्ष के लिए भूमि पट्टा की जाती है। विभागीय अधिकारियों द्वारा वर्ष 2005 तक नियमों के तहत पट्टा दिया गया लेकिन इसके बाद मनमानी की जा रही है। हालत यह है कि वर्ष 2005 में दिन लोगों को पट्टा दिया गया उन्हीं से हर पांच वर्ष पर नोटरी करवाकर सिचाई विभाग के जिलेदार चतुर्थ कार्यालय राब‌र्ट्सगंज में जमा करा दिया जाता है। गांव के कुछ तथाकथित दलालों द्वारा रुपये लेकर बिचौलिया का कार्य करते है और उन्हीं पट्टाधारकों को हर बार कृषि के लिए भूमि पट्टा पर दे दी जाती है। नए लोगों को आवंटन न करने से भूमिहीन, विधवा महिलाएं व गरीबों को जीवकोपार्जन के लिए पट्टा नहीं मिल रहा है। मंगला प्रसाद यादव, लालमणि यादव, रामजनम, सुबेदार, रामबहाल, सियाराम, हरिदास, पप्पू, संतोष कुमार, मनोज, लालता, केवली देवी, पुष्पावती, बचिया आदि ने प्रकरण की जांच कर पात्र व्यक्तियों को पट्टा दिए जाने की मांग की है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस