जागरण संवाददाता, सोनभद्र : एनएलओबी शौचालय निर्माण में लापरवाही बरतने पर रविवार को जिलाधिकारी एस राजलिगम ने कड़ी कार्रवाई की है। जिलाधिकारी ने लापरवाही बरतने पर एक सचिव को निलंबित करते हुए 18 सचिवों को चार्जशीट लगाया। चार्जशीट वाले सचिवों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द ही कार्य सुधार नहीं हुआ तो सभी लोगों को बर्खास्त कर दिया जाएगा।

जिलाधिकारी एस. राजलिगम ने एनएलओबी (स्वच्छ भारत मिशन से छूटे हुए परिवार) के तहत बन रहे शौचालय निर्माण की समीक्षा रविवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में किया। समीक्षा बैठक में पता चला कि जिले में 19 हजार 564 शौचालय बनने थे जिसके क्रम में 13 हजार 380 शौचालय का निर्माण पूरा हुआ है। शेष 6184 शौचालयों का निर्माण कार्य पूर्ण न करने वाले 46 सचिवों की समीक्षा की गई। जिनकी प्रगति 60 प्रतिशत से कम रही, उनकी चार्जशीट लगाई गई। दुद्धी ब्लाक के सचिव महिपाल लाकड़ा की स्थिति सबसे खराब होने पर उन्हे जिलाधिकारी ने निलंबित कर दिया। कम शौचालय निर्माण पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए जनपद के सभी सचिवों की रैंकिग निर्धारित करते हुए 60 फीसद तक कार्य पूर्ण न करने वाले सचिवों के खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई करने का आदेश दिया। कहा कि एक सप्ताह में कार्य पूर्ण नहीं किया गया तो बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि शौचालय निर्माण सर्वोच्च प्राथमिकता में है। इतने समय बीत जाने के बाद भी जिस सचिव व प्रधान के द्वारा शौचालय निर्माण में लापरवाही बरती जाएगी उन पर कार्रवाई की जाएगी। बैठक में सभी सहायक विकास अधिकारी पंचायत को भी निर्देशित किया गया कि सभी लोग फील्ड में जाकर निर्मित हो रहे शौचालयों की जांच करें। लक्ष्य को समय से पूर्ण कराएं। इस मौके पर सीडीओ अजय कुमार द्विवेदी, डीपीआरओ आरके भारती, डीडीओ रामबाबू त्रिपाठी आदि रहे। इन सचिवों पर हुई कार्रवाई

भारत भूषण भारती, आशा यादव, निर्भय सिंह, सचिव प्रमोद कुमार, राजेश कुमार, गिरीश चंद्र दुबे, शिवम सिंह, रमाकांत देव पांडे, संजू लता, अरुण कुमार, शुभम सिंह, सुनील कुमार पाल, हरिओम सिंह, राम अकबाल, शिल्पा सिंह, अरुण कुमार चौधरी, रोहित सिंह, अमरेश चंद्र रहे।

Edited By: Jagran