जागरण संवाददाता, घोरावल (सोनभद्र): विकास खंड के बलुहा बंधी का 70 फीट हिस्सा टूट जाने से किसानों के सामने ¨सचाई की समस्या खड़ी हो गई है। इससे भी बड़ी बात यह है कि धोवा पंप से इस नहर के लिए छूटने वाला पानी आखिरकार अधिक कैसे हो गया। मिली जानकारी के मुताबिक नहर के टूटने का प्रमुख कारण नगर के भीटे की ऊपरी सतह से पानी का बहना बताया जा रहा है। हालांकि, नहर की स्थितियों से बंधी प्रखंड के अभियंता अवगत हो गए हैं। और काम शुरू भी हो गया है लेकिन, स्थिति किसानों के लिए अभी तक बेहतर नहीं है।

घोरावल विकास खंड के ग्राम पंचायत पेड़ग्राम के अंतर्गत ही बलुहा बंधी है। इससे लगभग किसानों के 400 हेक्टेयर भूमि की ¨सचाई की जाती है। एक जानकारी के मुताबिक लगभग 40 पहले निर्मित इस नहर में पानी धोवा पंप से आता है जो बेलन नदी से जुड़ा हुआ है। 29 जुलाई को धोवा पंप से बलुहा नहर के लिए पानी छोड़ा गया। कुछ समय बाद पानी नहर के भीटे के ऊपर से बहने लगा। हालात यह हुआ कि कुछ देर बाद नहर का 70 फीट हिस्सा टूट गया और पानी ¨सचाई योग्य भूमि में जाने से पहले ही दूसरी जगह बह गया। बता दें कि यह ग्राम पंचायत मुख्यमंत्री समग्र विकास योजना के अंतर्गत चयनित है। दूसरी ओर इस नहर के किनारे का पानी बकहर नदी में जाता है। इसकी जानकारी होने पर बंधी प्रखंड के जेई मौके का मुआयना किया और काम भी शुरू करा दिया। लेकिन किसानों के लिए समस्याएं जस की तस बनी हुई हैं। वहीं किसानों में चर्चा यह है कि आखिरकार नहर की क्षमता की जानकारी पंप के संचालक को थी तो ऐसे में पानी अधिक क्यों छोड़ा गया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस