Move to Jagran APP

UP Roadways: चलती रोडवेज बस में लगी आग, बाल-बाल बचे यात्री; डीजल टैंक के ढीले पाइप में हो रहा था रिसाव

लखनऊ से गोला जा रही रोडवेज बस में गुरुवार रात करीब साढ़े दस बजे हरगांव के मुख्य चौराहे पर पाइप में रिसाव से आग लग गई। इसके बाद यात्री शीशा तोड़कर बाहर निकले और जान बचाई। दमकल जब आग बुझाती बस और उसमें रखा सामान जल गया था। बताया जा रहा है कि बस गोला डिपो की थी और उसमें करीब 25 यात्री सवार थे जिनमें ज्यादातर लखीमपुर के थे।

By Jagran News Edited By: Shivam Yadav Fri, 24 May 2024 12:34 AM (IST)
UP Roadways: चलती रोडवेज बस में लगी आग, बाल-बाल बचे यात्री

संवाद सूत्र, सीतापुर। लखनऊ से गोला जा रही रोडवेज बस (अनुबंधित) में गुरुवार रात करीब साढ़े दस बजे हरगांव के मुख्य चौराहे पर पाइप में रिसाव से आग लग गई। इसके बाद यात्री शीशा तोड़कर बाहर निकले और जान बचाई। 

दमकल जब आग बुझाती बस और उसमें रखा सामान जल गया था। बताया जा रहा है कि बस गोला डिपो की थी और उसमें करीब 25 यात्री सवार थे, जिनमें ज्यादातर लखीमपुर के थे। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। हालांकि, कई यात्रियों का सामान जल गया है। 

उधर, सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक राकेश वर्मा ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि हादसे में किसी के भी घायल होने की जानकारी नहीं है।  प्रकरण की जांच करवाई जा रही है। उसी के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। 

बस का चालक लखीमपुर के गोला के महेंद्र कुमार व परिचालक लखीमपुर के हैदराबाद के प्रेमचंद्र प्रेमी भाग गए। बस में आग लगने के बाद दोनों ओर करीब डेढ़ किलो मीटर तक जाम लग गया।

इनका जल गया सामान

पडरी गौरैया के अरविंद कुमार व जगत पाल, कुसमौरी के विनीत कुमार, नकहा के राम विलास, माया देवी, सतीश कुमार का सामान व नकदी जल गए। ऊंची भीड़ गोला के  मुईन अख्तर खान की एलएलबी की मार्कशीट व अन्य सामान जल गया। 

दो बार ड्राइवर ने ठीक किया था पाइप

सूत्रों के मुताबिक बस के डीजल टैंक को जाने वाला पाइप ढीला होने की जानकारी ड्राइवर को थी। बताया जाता है कि सीतापुर और उसके बाद हरगांव से पहले ड्राइवर ने उसे ठीक कराया था।

नहीं खुली इमरजेंसी खिड़की

बस की इमरजेंसी खिड़की जाम थीं। इससे यात्री बस के शीशे तोड़कर बाहर निकले।

बस में आग से बचाव के नहीं थे इंतज़ाम

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक बस में आग से बचाव के इंतजाम नहीं थे। अग्निशमन यंत्र भी नहीं था।