Move to Jagran APP

UP News: आंधी-बारिश से मचा हाहाकार, दीवार ढहने से एक की मौत; 1800 गांवों की बिजली गुल

उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में लगातार हो रही भीषण गर्मी से बुधवार रात करीब 11 बजे बूंदाबांदी होने से लोगों को राहत मिली। आंधी-बारिश से नैमिषारण्य के सिद्दीकपुर मजरा दहेलरा में दीवार ढह गई जिसके मलबे में दबकर श्रीराम की मौत हो गई। वहीं बिजली खंभों व पोल पर पेड़ गिरने और तारों के आपस टकराने से जिला मुख्यालय सहित करीब 1800 गांव की बिजली गुल हो गई।

By Durgesh Shukla Edited By: Abhishek Pandey Thu, 20 Jun 2024 05:12 PM (IST)
आंधी-बारिश के कारण गिरा बिजली का खंभा

जागरण टीम, सीतापुर। लगातार हो रही भीषण गर्मी से बुधवार रात करीब 11 बजे बूंदाबांदी होने से लोगों को राहत मिली। आंधी-बारिश से नैमिषारण्य के सिद्दीकपुर मजरा दहेलरा में दीवार ढह गई, जिसके मलबे में दबकर श्रीराम की मौत हो गई। वहीं, बिजली खंभों व पोल पर पेड़ गिरने और तारों के आपस टकराने से जिला मुख्यालय सहित करीब 1800 गांव की बिजली गुल हो गई।

हरगांव, तंबौर, बिसवां, लहरपुर सहित कई स्थानों पर बिजली के तार पर पेड़ गिर गए। इससे बिजली व्यवस्था चरमरा गई। गुरुवार देर शाम तक भी विभाग की ओर से ग्रामीण क्षेत्र की आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी। वहीं, तेज हवा के चलते एहतियात के तौर पर भी कुछ फीडरों पर आपूर्ति बंद करनी पड़ी। रात 12 बजे हवा कम होने पर आपूर्ति नगर की आपूर्ति सुचारू हो सकी। बिजली आने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली।

हरगांव: तेज हवा से लहरपुर-हरगांव मार्ग पर निकली 33 केवी लाइन पर कई स्थानों पर पेड़ गिर गए। इससे हरगांव कस्बा, मुद्रासन, हैदरपुर , सधुवापुर सहित करीब तीन सौ गांव की बिजली गुल हो गई। वहीं, झरेखापुर में करीब चार सौ गांव की बिजली गुल रही।

कल्ली चौराहा: मिश्रिख उपकेंद्र से विश्व बैंक फीडर बंद होने से करखिला, मरेली, हरसानी, जुगुल, विहारपुर, कल्ली चौराहा, बानपुर, हाजीपुर, सहावपुर, मढ़िया, मेहंदिया, उदयईपुर, रामपुर उत्तरधौना सहित करीब 125 गांव की बिजली आपूर्ति आंधी पानी आने से बंद हो गई।

तंबौर: रात्रि में आई आंधी-पानी से तंबौर से लहरपुर मार्ग पर बिजली लाइन पर पेड़ गिरने तथा बड़रिया गांव रखा ट्रांसफार्मर पोल सहित जमीन पर गिर गया। इससे क्षेत्र की बिजली गुल हो गई।

बिसवां व द्वितीय वितरण खंड में अधिक टूटे पोल

रात में आंधी-पानी आने से बिसवां व द्वितीय वितरण खंड में बिजली विभाग के सबसे अधिक पोल टूटने के साथ लाइन जर्जर हो गई। बताते हैं कि आंधी में बिजली विभाग के करीब 230 पोल टूट गए। पोल टूट जाने से ग्रामीण अंचल की बिजली व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गई है। उम्मीद है कि दो दिन में यहां पर आपूर्ति बहाल हो सकेगी।

रात में आई आंधी से विभाग का काफी नुकसान हुआ है। आंधी में एहतियात के तौर पर बिजली भी बंद कर दी थी, वहीं फाल्ट से करीब 1800 गांव में बिजली बाधित है।

नंदलाल, अधीक्षण अभियंता-बिजली

इसे भी पढ़ें: जिसे BJP समझ रही थी सपा की जल्दबाजी, असल में वो थी अखिलेश यादव की रणनीति; इस तरह बदल गया यूपी का सियासी समीकरण