Move to Jagran APP

UP News: पूर्व विधायक राधेश्याम एमपी-एमएलए कोर्ट से दोषी करार, अधिशासी अधिकारी ने दर्ज कराया था मुकदमा

सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और बलवा के मामले में एमपी-एमएलए कोर्ट ने पूर्व विधायक राधेश्याम जायसवाल को दोषी करार दिया है। कोर्ट ने पक्षद्रोही नगर पालिका के पांच कर्मचारियों को नोटिस भी जारी की है। सदर कोतवाली में वर्ष 2008 में तत्कालीन विधायक राधेश्याम जायसवाल पर मुकदमा लिखा गया था। तत्कालीन अधिशासी अधिकारी निहाल चंद ने उन पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और बलवा का मुकदमा लिखाया था।

By Jagran News Edited By: Shivam Yadav Mon, 27 May 2024 09:52 PM (IST)
UP News: पूर्व विधायक राधेश्याम एमपी-एमएलए कोर्ट से दोषी करार।

संवाद सूत्र, सीतापुर। सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और बलवा के मामले में एमपी-एमएलए कोर्ट ने पूर्व विधायक राधेश्याम जायसवाल को दोषी करार दिया है। उन्हें मंगलवार को सजा सुनाई जाएगी। कोर्ट ने पक्षद्रोही नगर पालिका के पांच कर्मचारियों को नोटिस भी जारी की है।

यह है पूरा मामला

सदर कोतवाली में वर्ष 2008 में तत्कालीन विधायक राधेश्याम जायसवाल पर मुकदमा लिखा गया था। तत्कालीन अधिशासी अधिकारी निहाल चंद ने उन पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और बलवा का मुकदमा लिखाया था। 

पुलिस ने विवेचना करके आरोप पत्र अदालत में पेश किया था। एमपी-एमएलए कोर्ट में केस की सुनवाई चल रही थी। उधर, नगर पालिका के पांच कर्मचारी पक्ष द्रोही हो गए थे। 

इसके बावजूद पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर एमपी-एमएलए कोर्ट के जज राजेन्द्र कुमार ने पूर्व विधायक को दोषी करार दे दिया। वहीं, पक्षद्रोही हुए कर्मचारियों को नोटिस जारी कर दी। 

केस पैरवी शासकीय अधिवक्ता राकेश अवस्थी कर रहे हैं। सहायक शासकीय अधिवक्ता गौरव मिश्र ने बताया कि दोषी करार देने के बावजूद पूर्व विधायक को जेल नहीं भेजा गया है। ऐसे में उन्हें सजा तीन वर्ष या फिर इससे कम ही होगी। इतनी सजा में बाहर से ही जमानत मिलने का प्रावधान है।

यह भी पढ़ें: स्पीड के साथ ऑडी कार से जा रहे थे उत्तराखंड, गाड़ी में लग गई आग- अंदर से दरवाजे भी हो गए लॉक; इसके बाद...