सीतापुर : शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर गुरुवार को माता सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना की गई। आलम नगर दुर्गा मंदिर, काली माता मंदिर, संतोषी माता मंदिर व शीतला माता मंदिर में श्रद्धालुओं ने देवी का गुणगान किया। इसी क्रम में कन्याओं को भोजन कराकर सुख-शांति और समृद्धि की कामना की।

महानवमी पर मां दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरूप की उपासना की गई। नैमिषारण्य में आदिशक्ति मां ललिता देवी के दर्शन कर श्रद्धालुओं ने हवन-पूजन किया और मत्था टेककर आशीर्वाद प्राप्त किया। रामपुर मथुरा क्षेत्र में मां कालिका देवी मंदिर में हवन-पूजन के बाद कन्या भोज का आयोजन किया गया। देवी मंदिर में सुबह से दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगी थी। जहांगीराबाद क्षेत्र के मवासेपुर गांव में ग्रामीणों ने मां भगवती जागरण व भंडारा आयोजित किया गया। मां भगवती, गणेश-लक्ष्मी, राधा-कृष्ण, हनुमान आदि देवी-देवताओं की झांकियां आकर्षण का केंद्र रहीं।

हरगांव के सरीफपुर में मां भन्ने देवी, कस्बे के मुहल्ला सरायं पित्थू में पित्थूआ देवी मंदिर में दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ रही। खैराबाद के भूलनपुर में प्राचीन मां गौरी देवी मंदिर में विश्व हिदू परिषद के सौजन्य से महाआरती का आयोजन किया गया। एबीवीपी पदाधिकारी सौरभ अवस्थी ने बताया कि 15 अक्टूबर को मां गौरी देवी मंदिर परिसर से विसर्जन यात्रा निकाली जाएगी, जो कि नैमिषारण्य के देव देवेश्वर के लिए प्रस्थान करेगी। इस अवसर पर वृंदावन के कथा व्यास प्रहलाद कृष्ण शास्त्री, विनय अवस्थी, लक्ष्मी अवस्थी, गौरव अवस्थी आदि मौजूद रहे।

कलाकारों ने प्रस्तुत किए भजन :

अष्टमी पर्व के अवसर पर बुधवार की रात माता का जगराता हुआ। इसके पहले ललिता माता की महाआरती की गई। जगराता में लखनऊ की जागरण पार्टी के सदस्यों रवि टंडन, जया श्रीवास्तव व दीपक कुमार ने माता का गुणगान किया।

घरों में भी हवन-पूजन :

महानवमी पर भक्तों ने घरों में हवन-पूजन किया। पंडितों ने मंत्रोच्चार के साथ हवन कराया। इसी क्रम में आरती व प्रसाद वितरण किया गया।

Edited By: Jagran