सीतापुर : गोंदलामऊ विकास खंड क्षेत्र में संक्रामक रोग थमने का नाम नहीं ले रहा है। हालत यह है कि लोग क्षेत्र के अस्पतालों के अलावा जिला मुख्यालय व लखनऊ में इलाज कराने को मजबूर हैं। अधिकांश लो्गों को बुखार की शिकायत है। क्षेत्र के रामपुर ख्योंटा में ग्राम प्रधान सरोजनी (45), अयोध्या (55), राकेश यादव (40), शकुन्तला (55), कृष्णा देवी (62), गयाप्रसाद ( 65), कल्लू यादव (52),रामजानकी (38), सचिनपाल (11), उर्मिला (40), शिव प्यारी (48), सीमा देवी (35), नीलम (45), नेहा (12), श्यामा देवी (40), आयुष (8), पीयूष (6) आदि बुखार से पीड़ित हैं। शंकरपुर में महेश , सुनील, मिथलेश, रानी, छोटेलाल, परमेश्वर, रामरानी सहित 25 व्यक्ति बुखार पीड़ित हैं। इनमें रामरानी का इलाज ¨हद अस्पताल में चल रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि कोई भी डॉक्टर टीम अभी तक गांव नही आई है। जबकि सरकारी अस्पताल महज 300 मीटर दूरी पर है। पप्पू ने बताया रामगढ़ स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बंद ही रहता है। रामगढ़ में रूपरानी, बहोरन, मुन्नी लाल, किरन, सोनू, नन्दनी, शोभा, शिवा, ठाकुर प्रसाद, अंशिका, उपासना, राजेश्वरी, राममूर्ति, शानू, सुमेर, विनोद, ऊषा, प्रेमा, प्रमिला, दीपक, संगीता, आदर्श, रामकुमार, सुनीता, मनोज, सुरेश आदि 50 लोग बुखार से पीड़ित हैं। जमुनापुर, शंकरपुर, रामगढ़, रामपुर, नगवा जयरामपुर, पैरवा, सैदापुर, कुनेरा म्हराजनगर, ब्रह्मावली, भारतपुर, नरबीरपुर, लक्ष्मणपुर, मिर्जापुर, रलहुवापुर, नगवापेड़ी, बबुरीखेड़ा, दहेलरा, सूरजपुर, सवासी आदि गावों में करीब 400 की संख्या में लोग बुखार हुआ है ।