सीतापुर : ये पहली बार है जब माहवारी स्वच्छता दिवस के दिन चुप्पी तोड़ो, सेहत से नाता जोड़ो का मंत्र ऑनलाइन दिया गया। आंगनबाड़ी केंद्रों के बजाय महिलाओं को सुरक्षा का सबक वीडियो और वाट्सएप कॉल के जरिए मिला। कई विकास खंडों की सीडीपीओ व सुपरवाइजर ने फोन से महिलाओं को माहवारी प्रबंधन की सीख दी। व्यक्तिगत स्वच्छता से लेकर सैनटरी नैपकिन के प्रयोग के बारे में बताया गया। माहवारी से जुड़ी भ्रांतियों को दूर किया गया। डीपीओ राजकपूर ने बताया कि, आंगनबाड़ी केंद्र बंद हैं। महिलाओं को पोषण की सीख ऑनलाइन दी जा रही है।

गुरुवार को माहवारी स्वच्छता दिवस के मौके पर महिलाओं और किशोरियों को इसी माध्यम से जागरूक किया गया। वीडियो कॉल से महिलाओं को व्यक्तिगत स्वच्छता का पाठ पढ़ाया गया। सेहत से समझौता न करने की नसीहत दी गई है।

सोच बदलो, सुरक्षित रहो

बाल विकास परियोजना कार्यालय महोली प्रभारी ममता यादव ने महिलाओं से वीडियो कॉल से महिलाओं को माहवारी प्रबंधन की सीख दी। उन्होंने महिलाओं से बात कर माहवारी के समय बरती जाने वाली सावधानियां बताईं। उन्होंने कहा कि, महिलाओं को सोच बदलनी होगी। माहवारी के मुद्दे पर खुलकर बात करने से ही समस्या का समाधान होगा। माहवारी के समय व्यक्तिगत स्वच्छता बहुत जरूरी है। गांव रस्योरा में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता राजेश्वरी ने गांव की किशोरियों और महिलाओं को माहवारी प्रबंधन के बारे में जानकारी दी। किशोरियों ने पोस्टर साझा कर माहवारी से जुड़ी भ्रांतियों को दूर किया। इसी तरह विकास खंड मिश्रिख, गोंदलामऊ, पिसावां, खैराबाद आदि में भी महिलाओं को ऑनलाइन जागरूकता का पाठ पढ़ाया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस