सीतापुर : मंगलवार को अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डॉ. गिरिजा शंकर बाजपेई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) पर पहुंचे। यहां उन्होंने इमरजेंसी समेत अन्य वार्डों का मुआयना किया। कोविड वैक्सीनेशन के बारे में भी अधीक्षक और स्वास्थ्य कर्मियों से जानकारी ली। अपर निदेशक ने कोविड वैक्सीनेशन से लाभान्वित होने वाले लोगों की संख्या बढ़ाने और वैक्सीन लगवाने को प्रेरित करने की सलाह दी। अपर निदेशक ने अधीक्षक से कहा, अस्पताल की साफ सफाई जरूरी है। इसलिए सफाई कार्य पर ध्यान दें। अपर निदेशक ने अधीक्षक व फार्मासिस्ट से जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता के बारे में भी जानकारी ली। अधीक्षक डॉ. राकेश वर्मा ने अपर निदेशक को बताया, डिमांड के मुताबिक औषधियां प्राप्त हो जा रही हैं।

एल-1 प्लस कोविड अस्पताल बन रहा सीएचसी

अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अपने कार्यालय टीम के साथ सीएचसी में पहुंचे थे। चूंकि सीएचसी एल-1 प्लस बन रहा है। इस संबंध में तैयारियां भी देखी हैं। बारिश में अस्पताल में जल भराव हो गया था। इस मामले में भी अपर निदेशक ने अधीक्षक से पूछताछ की। अधीक्षक डॉ. राकेश वर्मा ने बताया, उनकी सीएचसी को एफआरयू का दर्जा है। इसलिए एल-1 प्लस नहीं बनना था, पर यहां 50 बेडों की व्यवस्था है, इसलिए उसे भविष्य में एल-1 प्लस के लिए तैयार किया जा रहा है। अब सीएचसी के एल-1 प्लस बन जाने के बाद नॉन कोविड रोगियों को पुरानी बिल्डिग में स्वास्थ्य सेवाएं दी जाएंगी। पुरानी बिल्डिग वाले अस्पताल में 20 बेडों की सुविधा है।

अधीक्षक ने समस्याओं पर नहीं की चर्चा

एफआरयू वाले अस्पताल में अल्ट्रासाउंड व एक्स-रे सुविधा नहीं है। वैसे यहां स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. अमिता त्रिपाठी हैं। अधीक्षक ने बताया, उन्होंने अपर निदेशक से अस्पताल की समस्याओं के संबंध में चर्चा नहीं की है। अपर निदेशक खुद बारीकी से अस्पताल का मुआयना कर रहे थे। उन्होंने कोविड टेस्ट, इमरजेंसी सेवाएं, परिवार नियोजन व जननी सुरक्षा योजना के संबंध में भी पूछा है। इस दौरान डॉ. रेहान आलम, डॉ. अश्वनी वर्मा, रिज्वानुल हक, मधुकर मिश्र व अन्य स्वास्थ्य कर्मी थे।

Edited By: Jagran