सिद्धार्थनगर : खेसरहा थाना क्षेत्र के अरजी गांव में बुधवार को भूमि विवाद में पहुंची पुलिस के वाहन से किशोरी शबाना घायल हो गई। घटना के बाद ग्रामीणों ने पुलिस के वाहन को घंटों रोके रखा। थाने से जब अतिरिक्त फोर्स पहुंची तो लोगों ने वाहन को मुक्त किया। किशोरी के पिता साबित अली उक्त घटना की शिकायत एसपी से प्रार्थना पत्र देकर की है।

अरजी गांव में तीन भाइयों बारिश, साबित, जाहिद अली पुत्रगण आशिक अली में भूमि विवाद चल रहा है। पूर्व में 20 सितंबर को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट जग प्रवेश के यहां साबित ने प्रार्थना पत्र देकर विपक्षी नसीमा खातून पत्नी जाहिद अली पर आरोप लगाया था कि पुलिस ने नसीमा के कहने पर जबरन उसका गेहूं बोया खेत जोतवा दिया। इसी मामले सुबह उपनिरीक्षक उपेन्द्र सिंह की अगुवाई में पुलिस गांव में पहुंची थी। दोनों पक्षों की महिलाओं और पुरुषों को गाड़ी में बैठाने लगी। साबित अली का कहना है कि मेरी पुत्री शबाना को पुलिस खींच कर ले जा रही थी, इतने में वाहन का चालक गाड़ी बढ़ा दिया, जिससे मेरी बेटी का हाथ पुलिस वाहन में फंस कर कट गया। थानाध्यक्ष अभिमन्यु सिंह का कहना है लड़की ने ब्लेड से अपना हाथ काट लिया और गाड़ी के सामने लेट गई। दोनों पक्षों से कुल चार लोग मो रिजवान, रियाजुद्दीन, नसीमा खातून और सबाना का शांति भंग में चालान कर न्यायालय भेज दिया गया है। पति-पत्नी विवाद सुलझा एक साथ रहने को राजी सिद्धार्थनगर : वादी प्रतिवादी दिवस के तहत बुधवार को शिवनगर डिड़ई थाना परिसर में वर्षों से चला आ रहा पति पत्नी का विवाद क्षेत्राधिकारी देवी गुलाम की देखरेख में निपट गया और पति-पत्नी एक साथ रहने को तैयार हो गए। शादी विवाह का समय होने के कारण इस दिवस पर वैसे तो एक ही मामला आ सका।

सीओ ने बताया कि क्षेत्र में हुए, जमीनी विवाद, पति पत्नी के बीच झगडा़ जैसे अन्य मामलों के जो प्रार्थना पत्र थाने पर दिये गये थे। उनका इस वादी प्रतिवादी दिवस के तहत समाधान किया जाता है। लोगों को सूचित किया गया था पर खेती किसानी व लगन का समय होने के कारण लोग अधिक संख्या में नही पहुंचे। एक मामला कड़सरा निवासी गुडिया पत्नी अवधेश का ही आया। इन दोनों पति पत्नी में काफी दिनों से विवाद चल रहा था। वह तभी से पति से विरक्त थी। यह मामला कई बार जब थाना चौकी के रूप में कार्यरत था तब भी आया था। लेकिन निदान नही हो सका था। बुधवार को जब पत्नी थाने पर शिकायती प्रार्थना पत्र दी तो पति को बुलाकर समझाया गया। जिस पर दोनों हंसी खुशी साथ रहने को राजी हो गये। इस अवसर पर थानाध्यक्ष महेश सिंह, एसआई राकेश त्रिपाठी, हरेन्द्र नाथ राय, आशुतोष सिंह आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran