सिद्धार्थनगर : कोरोना संक्रमण की प्रमुख जांच आरटीपीसीआर (रीयल टाइम पालीमरेज चेन रिएक्शन) अब जनपद में हो सकेगी। रविवार को लैब का उद्घाटन होगा। अब तक इस जांच के लिए नमूना लखनऊ भेजा जाता था। रिपोर्ट आने में तीन दिन लग जाते थे। अब दो दिन में ही रिपोर्ट मिल जाया करेगा। लैब संचालन के लिए सात कर्मचारियों की तैनाती भी हो गई है। कोविड 19 के संक्रमण बढ़ने पर संदिग्धों का नमूना जांच के लिए बाहर भेजा जाता था। इसकी रिपोर्ट का इंतजार तीन से चार दिन तक करना होता था। ऐसी स्थित में संदिग्ध रोगी अस्पताल में भर्ती नहीं किया जाता था। घर व आसपास के लोगों के मिलने- जुलने से संक्रमण बढ़ने का डर बना रहता था। अब जांच रिपोर्ट जल्दी मिल जाएगी तो संक्रमण फैलने से रोकने में मदद मिलेगी। रिपोर्ट निगेटिव होने पर संदिग्ध रोगी को भी मानसिक तनाव के दौर से नहीं गुजरना पड़ेगा।

प्रभारी चिकित्साधिकारी जोगिया डा.मानवेंद्र पाल ने बताया कि 13 जून को लैब में जांच शुरू कर दी जाएगी।

इन स्टाफ की हो चुकी है तैनाती

लैब संचालन के लिए शासन ने दो मेडिकल सांइसटिस्ट , दो लैब सहायक, एक डाटा आपरेटर की नियुक्ति की गई है। सभी ने कार्यभार भी संभाल लिया है। लैब में लगी मशीनों का ट्रायल शुरू हो गया है।

सीएमओ डा. संदीप चौधरी ने कहा कि लैब संचालन के लिए आवश्यक संसाधन उपलब्ध हो चुका है। स्टाफ की तैनाती हो चुकी है। इसका संचालन रविवार को शुरू होने की उम्मीद है।

सभी लोग लगवाएं टीका

सिद्धार्थनगर: मदरसा दारुस्सलाम फुलवरिया में निगरानी समिति की बैठक शुक्रवार को हुई। कोरोना से बचाव के लिए टीका लगवाने की अपील की गई।

ग्राम पंचायत सचिव शकील अहमद ने कहा कि कोरोना जैसी महामारी से देश जूझ रहा है। इससे बचने के लिए सभी को टीकाकरण जरूर करवाना चाहिए। कहा कि सामूहिक प्रयास से ही महामारी को रोका जा सकता है।

श्याम नारायन, विशाल कुमार, सिकन्दर यादव,नन्दनी फूलकुमारी फारूक, अजहर,नजाबुद्दीन,सुखबली प्रदीप कुमार आदि मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप