सिद्धार्थनगर : शिक्षा विभाग की कहानी भी अजीबो-गरीब है। ठंड शुरू होते ही परिषदीय विद्यालयों में स्वेटर वितरण हो जाने के आदेश जारी तो किए गए, परंतु वर्तमान में स्थिति यह है कि दिसंबर का आधा महीना खत्म हो गया। अभी भी हजारों मासूम बच्चे स्वेटर मिलने की राह देख रहे हैं। इधर ठंड बढ़ गई। सुबह-सवेरे विद्यालय जाने वाले गरीब बच्चे ठंड में ठिठुर रहे हैं। ई-टेंडरिग व्यवस्था के तहत इस बार स्वेटर वितरित होना है। सप्लायर की मनमानी ऐसी कि इटवा, खुनियांव, भनवापुर ब्लाक क्षेत्रों में छात्र संख्या के हिसाब से एक चौथाई भी स्वेटर की आपूर्ति नहीं की जा सकी है।

इटवा क्षेत्र बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डा. सतीश द्विवेदी का अपना गृह क्षेत्र है। यहां स्वेटर वितरण में इतनी लेटलतीफी तो अन्य जगहों की स्थिति क्या होगी, इसका अंदाजा सहजता पूर्वक लगाया जा सकता है। पहले टेंडर प्रक्रिया में विलंब हुआ, जब सारी औपचारिकता पूर्ण हुई, तो स्वेटर की आपूर्ति ही नहीं हो पा रही है। तीनों ब्लाक क्षेत्रों में नजर डालें तो यहां परिषदीय विद्यालयों की छात्र संख्या 83493 है। जबकि अभी तक मात्र 18995 ही स्वेटर उपलब्ध हो सका है। खुनियांव ब्लाक क्षेत्र के एक भी विद्यालय में स्वेटर का वितरण शुरू नहीं हो सका है, क्योंकि यहां कल ही केवल तीन हजार स्वेटर की आपूर्ति भेजी गई।

-

ब्लाकवार विद्यालय एवं छात्रों की संख्या

-

इटवा, प्राथमिक 159, पूर्व माध्यमिक विद्यालय 54

छात्रों की संख्या 23395, स्वेटर की आपूर्ति 13395

-

खुनियांव, प्राथमिक 188, पूर्व माध्यमिक विद्यालय 69

छात्रों की संख्या 32000, स्वेटर की आपूर्ति 3000

-

भनवापुर, प्राथमिक 161, पूर्व माध्यमिक विद्यालय 64

छात्रों की संख्या, 28098, स्वेटर की आपूर्ति सिर्फ 2600

--

क्या कहते हैं अधिकारी

चार्ट सिस्टम के हिसाब से सप्लायर स्वेटर पहुंचा रहे हैं। कुछ स्वेटर पहुंच गए हैं, शीघ्र ही सभी बच्चों के स्वेटर पहुंचाने संबंधित निर्देश दिए गए हैं।

शिक्षाधिकारी सूर्यकांत त्रिपाठी, बीएसए

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस