सिद्धार्थनगर : नागरिकता संशोधन कानून को जनता ने मंजूरी दे दी है। आजाद भारत का पहला जनआंदोलन है, जिसमें लोग सकारात्मक ²ष्टि से सड़कों पर उतरे। इससे विपक्षी दलों में हताशा फैल गई है। वह लोगों में भ्रम फैलाने का काम कर रही है। कांग्रेस सरकार द्वारा की गई भूल को सुधारने का काम भाजपा की केंद्र सरकार कर रही है। इस कानून से किसी की नागरिकता छिन नहीं सकती है। तीन देशों के अल्पसंख्यक वर्ग के शरणार्थियों को नागरिकता प्रदान की जाएगी।

यह बातें बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डा. सतीश द्विवेदी ने कही। वह सोमवार को नगरपालिका परिसर में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में निकली पदयात्रा के समापन पर संबोधित कर रहे थे। भीड़ देख गदगद हो उठे मंत्री ने कहा कि सीएए के समर्थन में यह सैलाब बताता है कि सरकार ने सही कदम उठाया है। उन्होंने कहा कि 14 अगस्त 1947 को भारत का विभाजन हुआ था। मुस्लिम राष्ट्र के रूप में पाकिस्तान की स्थापना की गई। प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने भारत को धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र घोषित किया था। नेहरू व लिकायत अली में इस संबंध में संधि भी हुई, लेकिन पाकिस्तान ने संधि का उल्लंघन किया। यहीं स्थिति बांग्लादेश व अफगानिस्तान की थी। इन देशों में निवास करने वाले हिदु, सिख, जैन, बौद्ध, इसाई, पारसी आदि संप्रदाय के लोग अल्पसंख्यक वर्ग में आते हैं। वहां उत्पीड़ित होने के बाद पलायन करके भारत में शरण लिए, लेकिन इन्हें यहां भी नागरिकता नहीं मिली। इन्हीं लोगों को राहत देने के लिए नागरिकता संशोधन कानून लाने की आवश्यकता पड़ी। सांसद जगदंबिका पाल ने कहा कि 31 दिसंबर 2014 से पहले भारत में शरण लेने वाले शरणार्थियों को इस कानून के माध्यम से नागरिकता दी जाएगी। प्रदेश मंत्री भाजपा कामेश्वर सिंह ने कहा कि विपक्षी दल इस कानून को धुरी बनाकर राजनीति की रोटी सेंकने का प्रयास कर रही है। जनता ने समर्थन देकर उनके मंसूबों को नकार दिया है। विधायक कपिलवस्तु श्यामधनी राही, जिला संचालक राजेश शर्मा, जिलाध्यक्ष गोविद माधव आदि ने भी विचार व्यक्त किए। संचालन पूर्व महामंत्री घनश्याम मिश्रा ने किया। इस अवसर पर अध्यक्ष नगरपालिका श्याम बिहारी जायसवाल, पूर्व जिलाध्यक्ष लालजी त्रिपाठी, रामकुमार कुंवर, नरेंद्र मणि त्रिपाठी, युवा मोर्चा के क्षेत्रीय महामंत्री कन्हैया पासवान, हरिशंकर सिंह, विपिन सिंह, श्याम सुंदर मित्तल, राजू श्रीवास्तव, लवकुश ओझा, मनोज मौर्य, मोनी पांडेय, दयाराम लोधी, मधुसूदन अग्रहरि, निखिल प्रताप सिंह, आनंद मणि त्रिपाठी, अभिषेक त्रिपाठी, राजू शाही, डा. विनयकांत त्रिपाठी, अनूप कुमार सिंह आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस