श्रावस्ती : सीमावर्ती गांवों के युवक-युवतियों को तकनीकि रूप से दक्ष बनाकर रोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से आरसेटी के सहयोग से एसएसबी ने नवयुवक कल्याण पाठ्यक्रम की शुरुआत की है। मंगलवार को कमांडेंट सीएस तोमर ने फीता काटकर शुभारंभ किया। पहले बैच में 30 युवाओं का प्रवेश लेकर उन्हे डेयरी फार्मिग की तकनीकि सिखाई जाएगी।

कमांडेन्ट 62वीं वाहिनी एसएसबी सीएस तोमर ने कहा कि यह पाठ्यक्रम युवकों को आत्मनिर्भर बनाने ने रोजगार होगा। इसमें 10 दिनों तक डेयरी फार्मिग की मूलभूत जानकारी दी जायेगी। कमाडेंट ने महिलाओं के लिए चलाए जा रहे अगरबत्ती प्रशिक्षण कार्यक्रम का भी जायजा लिया। ग्रामीणों ने एसएसबी के इस पहल की सराहना की। इस मौके पर उप कमांडेंट आशुतोष कुमार पांडेय, आरसेटी के निदेशक मनीष रस्तोगी, एलडीएम संतोष कुमार झा, प्रशिक्षक अशोक कुमार पाठक, आनंद कुमार व आलोक मिश्रा मौजूद रहे।

Posted By: Jagran