शामली, जागरण टीम। डेंगू का प्रकोप थमा नहीं है। दो और मरीजों की एलाइजा जांच रिपोर्ट पाजिटिव आई है। जिले में डेंगू के कुल मरीजों की संख्या 292 हो गई है।

जिले में डेंगू का प्रकोप इस बार बहुत अधिक रहा है। रैपिड कार्ड जांच में बड़ी संख्या में डेंगू के मरीज मिले हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग एलाइजा जांच को ही प्रमाणित मानता है। करीब 650 लोगों की एलाइजा जांच हुई है। अब 16 सैंपल लंबित हैं। नए मिले मरीजों में एक बनत और एक खंद्रावली गांव निवासी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार दोनों की हालत अब ठीक है। वहीं, काफी लोगों की बुखार से मृत्यु भी हुई है, लेकिन डेंगू से कोई भी मौत विभाग आंकड़ों में नहीं है।

जिला मलेरिया अधिकारी डा. विनय कुमार ने बताया कि ठंड बढ़ने के साथ ही डेंगू का प्रकोप कम हो रहा है, लेकिन कोई लापरवाही नहीं करनी चाहिए। मच्छरों से बचाव रखें, पानी को इकट्ठा न रहने दें। बुखार हो तो चिकित्सक को दिखाएं। पैरासिटामोल के अलावा खुद से कोई और दवा न लें। जहां भी बुखार के रोगी होने की सूचना मिलती है तो टीम वहां जाती है। खंद्रावली और बनत में भी एंटी लार्वा का छिड़काव किया जाएगा। निजी अस्पतालों में डेंगू के संभावित रोगियों के सैंपल भी एलाइजा जांच को लगातार लिए जा रहे हैं। तीन दिवसीय शिविर कल से

शामली : राजकीय फल संरक्षण केंद्र शामली के प्रभारी एसके सिरोही ने बताया कि महात्मा गांधी ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत तीन दिवसीय खाद्य प्रसंस्करण जागरूकता शिविर गांव भनेड़ा जट में आयोजित होगा। शिविर 15 से 17 दिसंबर तक चलेगा। इसमें युवक-युवतियों को खाद्य प्रसंस्करण यूनिट स्थापित कर स्वरोजगार प्राप्त करने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण में पंजीकरण पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर होगा। - जासं पांच परिवारों की सूची सौंपी

शामली: सभासद पंकज गुप्ता ने अपर जिलाधिकारी संतोष कुमार सिंह को ऐसे पांच परिवारों की सूची सौंपी है, जिन्होंने कोरोना संक्रमण के कारण अपनों को खोया है। सभासद ने बताया कि सरकार की ओर से ऐसे परिवारों को 50 हजार रुपये की आर्थिक मदद की जाएगी। उनका प्रयास है कि ऐसे अधिक से अधिक परिवारों को सरकार की योजना का लाभ मिले। -जासं

Edited By: Jagran