शामली, जागरण टीम। गैंगस्टर एक्ट में वांछित आधा दर्जन आरोपितों ने अपराध जगत छोड़कर कोतवाली में आत्मसमर्पण किया। पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इन्हें पूर्व सांसद तबस्सुम हसन और विधायक नाहिद हसन के साथ गैंगस्टर में निरुद्ध किया गया था।

एसपी सुकीर्ति माधव के आदेशानुसार वांछित अभियुक्तों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान के तहत गिरफ्तारी एवं कानूनी कार्रवाई के बढ़ते दबाव के चलते आधा दर्जन गैंगस्टर के अभियुक्त बुधवार को कोतवाली पहुंच गए। उन्होंने हाथ उठाते हुए कोतवाली प्रभारी निरीक्षक प्रेमवीर सिंह राणा के समक्ष आत्मसमर्पण किया और भविष्य में हम अपराध नहीं करेंगे। आरोपितों के नाम नौशाद, हाशिम, फुरकान, इनाम, तासीम उर्फ राजा व फरमान निवासीगण गांव रामड़ा बताए गए हैं। कोतवाली प्रभारी ने बताया कि आरोपितों के विरुद्ध कोतवाली पर बलवा, हत्या का प्रयास एवं चोरी आदि के पूर्व में अभियोग पंजीकृत हैं, जिन पर अंकुश लगाने के लिए उनके विरुद्ध गैंगस्टर की कार्रवाई की गई है।

यह है मामला

बता दें कि फरवरी 2021 में कैराना कोतवाली में विधायक नाहिद हसन व उनकी मां पूर्व सांसद तबस्सुम हसन सहित 40 लोगों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। इसी मामले में आरोपित वांछित थे। इसमें अभी तक 22 अभियुक्त पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर चुके हैं, जबकि कुल 25 अभियुक्तों को जेल भेजा जा चुका है। कोतवाली प्रभारी का कहना है कि इसमें वांछित अन्य आरोपितों को भी शीघ्र जेल भेजा जाएगा। इन्होंने कहा-

अपराधियों पर शिकंजा कसा जा रहा है। पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए 22 गैंगस्टर ने आत्म समर्पण कर जुर्म से तौबा की है। मुठभेड़ में डेढ़ दर्जन बदमाश पकड़े गए हैं। इस साल में अभी तक सौ से ज्यादा ज्यादा आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को सलाखों के पीछे भेजा जा चुका है।

सुकीर्ति माधव, पुलिस अधीक्षक।

Edited By: Jagran