शामली: केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी अटल भूजल योजना में सहारनपुर मंडल के मुजफ्फरनगर व शामली जनपद को चयनित किया गया है। इसमें जिला शामली के कांधला ब्लाक में 14 गांव शामिल हैं। इन गांवों में जलस्तर में सुधार कर किसानों की आय दोगुनी करने का दावा भी किया जा रहा है। 11 महकमे अपने-अपने स्तर से भूजलस्तर की बेहतरी के लिए कार्य करेंगे।

अटल भूजल योजना के लिए योगी सरकार ने 729.24 करोड़ का बजट स्वीकृत किया है। सहारनपुर मंडल के जिला शामली के ब्लाक कांधला व मुजफ्फरनगर के ब्लाक बुढ़ाना इस योजना में शामिल हैं। डार्क जोन में होने के कारण इनका जलस्तर ऊपर उठाने का काम किया जाएगा। इस योजना से जिले के 14 गांवों में विकास की रफ्तार बढ़ेगी।

--------

ये है अटल भूजल योजना

स्वर्गीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर केंद्र सरकार ने अटल भूजल योजना की शुरूआत की है। योजना का लक्ष्य देश के उन क्षेत्रों में भूजल स्तर को ऊपर उठाने का कार्य करना है, जिनमें भूजल का स्तर काफी नीेचे चला गया है। किसानों को खेती के लिए पर्याप्त मात्रा में जल भंडारण सुनिश्चित किया जाएगा। गांव-गांव अभियान चलाकर लोगों को पानी बचाने के प्रति जागरूक किया जाएगा। ----

इन गांवों को मिलेगा लाभ

कांधला विकास खंड के गांव भारसी, ब्रह्मखेड़ा, डांगरौल, हुरमंजपुर, पुहासपुर, किवाना, लिसाढ़, मतनावली, रायपुरखेड़ी, सल्फा, सुन्ना, ताहरपुर भभीसा, खंद्रावली, रसूलपुर गुजरान गांवों को इस योजना का लाभ मिलेगा। सरकार इस योजना के जरिए किसानों की आय दोगुना होने का दावा भी कर रही है।

------

भूगर्भ जलस्तर साल गया नीचे

पर्यावरणविद ईश्वर पाल सिंह बताते हैं कि हर साल 20 से 25 सेमी जलस्तर नीचे चला जाता है। पिछले 11 साल में यह ढाई से तीन मीटर तक नीचे जा चुका है। कम गहराई में लगे हैंडपंप व नलकूपों के बोरिंग फेल हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि इसके लिए ठोस उपायों की आवश्यकता है। योजना शुरू होने के उपरांत सही नतीजों की जानकारी मिल सकेगी।

---

इन्होंने कहा-

अटल भूजल योजना में जिले के विकास खंड कांधला के 14 ब्लाक को शामिल किया गया है। इस योजना से जलस्तर को बेहतर किया जाएगा। इससे किसानों को निश्चित तौर पर लाभ मिलेगा। इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

- शंभूनाथ तिवारी, मुख्य विकास अधिकारी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021