संवाद सूत्र, जलालाबाद : क्षेत्र के गांव नागल जहां के प्राइमरी स्कूल की चारदीवारी नहीं होने व बच्चों की सुरक्षा पर आखिर स्कूल प्रशासन जाग गया। जागरण के बच्चों की सुरक्षा का मामला प्रमुखता से उठाने पर स्कूल प्रशासन ने चारदीवारी निर्माण का मामला उठाया। फिलहाल चारदीवारी करा दी गई है। इससे अभिभावक बेहद खुश है।

बीआरसी से मात्र दो किलोमीटर की दूरी पर नांगल गांव के प्राथमिक विद्यालय नंबर दो में बच्चों की संख्या बेहद कम है। विद्यालय गांव के बाहर खेतों के करीब है। विद्यालय की चारदीवारी नहीं होने के कारण आवारा पशु, कुत्ते पढ़ाई के दौरान ही स्कूल में घुस जाते थे। आवारा कुत्तों का डर छात्रों के साथ अध्यापकों को भी हर समय बना रहता था। इसी कारण गांव के ग्रामीण अपने बच्चों का पंजीकरण इस विद्यालय में कराने से डरते थे। बच्चों को स्कूल में मिड-डे-मिल खिलाते समय भी आवारा कुत्ते घुस जाते थे। चारदीवारी निर्माण के लिए ग्रामीणों भी कई बार मांग कर चुके थे, लेकिन दीवार का निर्माण नहीं हो सका। दैनिक जागरण ने स्कूल में चारदीवारी नहीं खतरे में नौनिहालों की जान, खबर प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिसके बाद ग्राम प्रधान ने स्कूल चारदीवारी के लिए ग्राम पंचायत के बजट से पहल की। अब जहां बच्चे सुरक्षित हैं, वहीं परिजन भी खुश हैं।

Posted By: Jagran