शामली : क्राइम ब्रांच व थाना आदर्श मंडी पुलिस ने रविवार शाम को चे¨कग अभियान के दौरान एक कार में आते दो युवकों को गिरफ्तार किया है, जिनकी निशानदेही पर पुलिस ने नौ कार बरामद कीं। सभी कार दिल्ली से चुराकर यहां लाई गई थीं। इन कारों को फर्जी नंबर प्लेट लगाकर व नकली आरसी बनाकर बेचा जाता था।

पुलिस लाइन में एसपी अजय कुमार ने पत्रकारों से वार्ता कर बताया कि क्राइम ब्रांच टीम प्रभारी सतपाल ¨सह, विकास, नितिन आदि आदर्श मंडी थाना पुलिस के साथ नगर के एसटी तिराहे पर रविवार शाम चे¨कग कर रहे थे, तभी वर्ना कार में दो युवक आते दिखे। जिन्हें रुककर उनसे पूछताछ की तो वह कार के कागजात नहीं दिखा पाए। दोनों युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पकड़े गए लोगों ने अपने नाम ओसाफ रब्बानी पुत्र मंसूर निवासी मोहल्ला गुलशन नगर शामली मूल निवासी मोहल्ला न्याजूपुरा मुजफ्फरनगर व मोहम्मद हसन पुत्र मोहम्मद हफीज निवासी विजय मौजपुर, सीलमपुरी दिल्ली बताए। उनकी निशानदेही पर गुलशन नगर में ही खाली प्लाट में खड़ी पांच सेंट्रो व तीन वेगन-आर कार बरामद कीं। एसपी ने बताया कि मोहम्मद हसन दिल्ली से कारों को चुराकर लाता था। फर्जी नंबर प्लेट व कागजात बनाकर दोनों कारों को बेचते थे। इन कारों के चोरी के मामले दिल्ली में दर्ज हैं। दिल्ली पुलिस को इस बारे में सूचना दे दी गई है। ये दोनों अंतरराज्यीय वाहन चोर हैं, जो दिल्ली, हरियाणा, गाजियाबाद, नोएडा से कार व दोपहिया वाहन चोरी करते हैं। चोरी के कितने वाहन बेचे गए। किसने खरीदे हैं। इसके साथ ही दोनों के साथियों की तलाश की जा रही है। दोनों शातिरों के खिलाफ आदर्श मंडी थाने में रिपोर्ट दर्ज की गई है। टीम को दस हजार का इनाम दिया जाएगा। चालीस हजार में बेचते थे कार

एसपी ने बताया कि दोनों शातिर वर्ना जैसी कार को मात्र पचास से साठ हजार में बेच देते थे। सेंट्रो व वेगनआर कार को चालीस हजार में बेचा जाता था। शामली में कितनी कार बेची गई। इसकी जांच कराई जा रही है।

रब्बानी पहले भी गया था जेल

थाना आदर्श मंडी प्रभारी सुनील कुमार ¨सह ने बताया कि ओसाफ रब्बानी को जनवरी 2017 में चोरी के वाहनों व फर्जी कागजात बनाने के मामले में जेल भेजा गया था।अब उसे यहां पकड़ा गया है।

पहली बार पकड़ी कारें

पुलिस का कहना है कि जनपद शामली में पहली बार कारें बरामद हुई है। अबसे पहले दोपहिया वाहन ही पकड़े जा सके है। यह पुलिस की बड़ी सफलता है।

Edited By: Jagran