शामली, जागरण टीम। भारतीय किसान यूनियन (तोमर) के कार्यकर्ताओं ने बकाया गन्ना भुगतान, पेट्रोल-डीजल व रसोई गैस के दामों में कमी किए जाने समेत विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। किसानों ने कलक्ट्रेट गेट पर पहुंचकर हाईवे जाम कर दिया। यहां पुलिस अधिकारियों के समझाने बुझाने पर कार्यकर्ता परिसर में पहुंचे और यहां धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान किसानों ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन डीएम जसजीत कौर को सौंपा गया।

बुधवार को किसानों ने कलक्ट्रेट में पहुंचकर बकाया गन्ना भुगतान व पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी के विरोध में प्रदर्शन किया। इससे पहले ही कलक्ट्रेट परिसर व गेट पर पुलिस बल तैनात किया गया था। दोपहर में भाकियू तोमर के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव तोमर के नेतृत्व में किसान कलक्ट्रेट पहुंच गए। यहां एकत्रित होकर पानीपत-खटीमा हाईवे पर जाम लगा दिया। इससे वाहनों की लंबी कतारें लग गई। सीओ प्रदीप कुमार व अन्य पुलिस अधिकारियों ने किसानों को समझा-बुझाकर 10 मिनट बाद ही जाम खुलवा दिया। यहां से किसान कलक्ट्रेट परिसर में पहुंचे और नारेबाजी करते जमकर प्रदर्शन किया। किसानों ने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के विरोध में हैं। इन्हें रद किया जाना चाहिए। पेट्रोल-डीजल व गैस के दाम आए दिन बढ़ रहे हैं। गन्ने का भुगतान नहीं हो रहा है। तहसीलों में किसानों का शोषण किया जा रहा है, बिना रिश्वत लिए कोई काम नहीं हो रहा। वहीं पुलिस थानों में क्रास केस दर्ज कराकर पीड़ितों को इंसाफ नहीं मिलने दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बिजली के जर्जर तार हादसों को न्यौता दे रहे हैं, लेकिन निगम के अफसर इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। किसानों को एक हजार रुपये पेंशन, संपूर्ण कर्जमाफी और बकाया गन्ना भुगतान त्वरित दिलाने समेत 14 सूत्रीय ज्ञापन डीएम जसजीत कौर को सौंपा गया। धरने की अध्यक्षता सुदेशपाल एवं संचालन रणवीर सिंह ने किया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष राजेंद्र पंवार, चंद्रवीर सिंह, राममेहर तोमर, आशु चौधरी, सचिन सैनी जलालाबाद, पवन त्यागी, अजय त्यागी, अखिलेश चौधरी, सोनू तेजियान, दिलशाद राणा, आशीष, शमशाद आदि शामिल रहे।

Edited By: Jagran