शामली, जागरण टीम। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वर्चुअल माध्यम से प्रदेश की जिला पंचायतों की हाटमिक्स पद्धति से निर्मित सड़कों का लोकार्पण किया। इसके तहत जिले में जिला पंचायत की निर्मित सात मार्गों की लंबाई 7.51 किलोमीटर लागत 3.17 करोड़ का मुख्यमंत्री लोकार्पण किया गया। जिले में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना-3 बैच-1 के तहत आठ मार्ग लंबाई 70.05 किलोमीटर अनुमानित लागत 43.01 करोड़ का शुभारंभ भी मुख्यमंत्री ने किया। कलक्ट्रेट एनआइसी में आयोजित कार्यक्रम के दौरान शामली विधायक तेजेंद्र निर्वाल, जिला पंचायत अध्यक्ष मधु, जिलाधिकारी जसजीत कौर, मुख्य विकास अधिकारी शंभूनाथ तिवारी, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत मुकेश जैन, जवाहर सिंह अधिशासी अभियंता प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना समेत विभिन्न अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के वर्चुअल संवाद को सुना। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासन में विकास गांव-गांव तक पहुंच रहा है। मुख्यमंत्री ने विभिन्न जनपदों में योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद स्थापित करते हुए कहा कि जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत, ग्राम पंचायतों में होने वाले सभी प्रोजेक्ट पर कार्य मानक व गुणवत्ता पूर्ण तरीके से हो ताकि जन विश्वास का प्रतीक बने।

सड़क पर अतिक्रमण की शिकायत

संवाद सूत्र, ऊन : कस्बा ऊन के एक मोहल्लावासियों ने सड़क पर अतिक्रमण की शिकायत अधिकारियों से की है।

बुधवार को कस्बा ऊन के मोहल्ला देवी मंदिर निवासी लोगों ने उपजिलाधिकारी मणि अरोड़ा से दिए शिकायती पत्र में बताया कि मोहल्ला देवी मंदिर के आम रास्ते पर सड़क के दोनों तरफ लोगों ने अपने वाहन खड़े कर रखे हैं। जगह-जगह गोबर डाल रखा है तो कहीं किसी ने अपने पशु बांध रखे हैं। इसके कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सड़क किनारे गंदगी होने के कारण मच्छरों का प्रकोप दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। एसडीएम ने ईओ ऊन को जांच कर तुरंत सड़क किनारे से वाहन व गंदगी को हटाने के आदेश दिए। शिकायतकर्ताओं में हरपाल, नकली, सोमपाल, योगेंद्र, यशपाल आदि शामिल रहे। बाजार पूरी तरह से रहे बंद

संवाद सूत्र, ऊन : कस्बा ऊन में बुधवार का दिन साप्ताहिक बंदी के लिए निश्चित है, लेकिन कुछ दुकानदार इसके बाद भी अपने प्रतिष्ठान खोलते थे। व्यापार मंडल के पदाधिकारियों द्वारा दुकानदारों से अनुरोध कर आदेश दिए गए कि अगर कोई दुकानदार साप्ताहिक बंदी के दिन अपनी दुकानें खोलेगा तो उसे चिह्नीत कर कार्रवाई की जाएगी। उसी के कारण कस्बा ऊन का बाजार पूर्णत: बंद रहा। बाहरी लोग जरूरी सामान खरीदने के लिए बाजारों में चक्कर काटते देखे गए।

Edited By: Jagran