शामली, जागरण टीम। भीम आर्मी भारत एकता मिशन ने परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापकों की भर्ती में नियमों की अवहेलना का आरोप लगाया है। कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रपति और राज्यपाल से शिक्षक भर्ती में आरक्षण व्यवस्था का सही अनुपालन कराने की मांग की है।

सोमवार को संगठन के जिलाध्यक्ष अनुज भारती के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रपति और राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन डीएम को सौंपा। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के तत्वावधान में संचालित परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापकों के कुल 69 हजार पदों पर भर्ती की अधिसूचना के लिए विज्ञापन प्रकाशित किया गया था। इसकी लिखित परीक्षा छह जनवरी 2019 को संपन्न हुई थी। इस भर्ती प्रक्रिया में आरक्षण नियमों की बडे़ पैमाने पर अवहेलना की गई। ओबीसी वर्ग को 27 फीसद आरक्षण की जगह इस भर्ती में मात्र 3.86 फीसद आरक्षण मिला है और इसी तरह की अनुसूचित जाति को 21 की जगह मात्र 16 फीसद आरक्षण प्राप्त हुआ है। अनारक्षित वर्ग की लगभग 15 हजार अनारक्षित सीटों को एमआरसी प्रक्रिया से रोका जा रहा है। बताया कि राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने संज्ञान लेते उत्तर प्रदेश के सभी 75 जनपदों के बेसिक शिक्षा अधिकारियों एनसीआरटी कार्यालय प्रयागराज एवं लखनऊ सचिव स्तर के सभी प्रमुख बेसिक शिक्षा अधिकारियों को बुलाकर अतिरिक्त रिपोर्ट तैयार की। इसमें आरक्षण नियमों के साथ धांधली का खुलासा हुआ। इस अंतरिम रिपोर्ट को सरकार के पास भेजते हुए आयोग ने सरकार से इस संबंध में 15 दिन के भीतर अपना पक्ष रखने को कहा था, लेकिन एक महीना बीत जाने के बाद भी सरकार ने इस अंतरिम रिपोर्ट पर कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण मामलों का सही अनुपालन कराने की मांग की है। इस अवसर पर अश्वनी कुमार, जोगेंद्र, प्रमोद, राजेश, इंतजार मलिक, सोनू कुमार, आकाश आदि भी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran