शामली, जागरण टीम। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग के तत्वाधान में माह सितंबर से चतुर्थ राष्ट्रीय पोषण माह का शुभारंभ किया गया था। इसके तहत बुधवार को गांव खंद्रावली में पोषण जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ जिला कार्यक्रम अधिकारी संतोष कुमार श्रीवास्तव ने दीप प्रज्जवलित एवं फीता काटकर किया। कार्यक्रम में गर्भवती महिलाओं की गोदभराई कराई तथा बच्चों को अन्नप्राशन कराया गया। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग ने किशोरियों के लिए हेल्थ कैंप लगाया गया। जिसमें किशोरियों के स्वास्थ्य की जांच की गई तथा आयरन की गोली एवं सैनिटरी नैपकिन पैड का वितरण किया गया। जिला कार्यक्रम अधिकारी ने कहा कि किशोरी स्वस्थ्य परिवार की नींव रखती हैं। इसलिए यदि किशोरी स्वस्थ होगी तो वह विवाहित होकर एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म देती है तथा एक स्वस्थ्य परिवार का निर्माण करेगी।

उन्होंने गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ के प्रति खान-पान पर विशेष ध्यान देने की सलाह दी। कार्यक्रम में गर्भवती महिलाओं को पांच बार स्वास्थ्य जांच, 180 आयरन की गोली का प्रतिदिन एक गोली का सेवन डेढ़ गुना पौष्टिक भोजन दिन में दो घंटे आराम, संस्थागत प्रसव, जन्म के एक घंटे के अन्दर बच्चे को मां का स्तनपान, छह माह तक सिर्फ मां का दूध, शहद, घुट्टी पानी कुछ भी नहीं की जानकारी दी गई। चिकित्सा अधीक्षक डा. रामबीर सिंह ने किशोरियों व महिलाओं के स्वास्थ्य तथा कोविड-19 के बारे में विस्तार से जानकारी दी। वहीं, जिला कार्यक्रम अधिकारी संतोष कुमार श्रीवास्तव ने हरी झंडी दिखाकर पोषण रैली को रवाना किया। इस दौरान तोहीद अहमद बीपीएम, डा. रूपन, प्रभारी बाल विकास परियोजना अधिकारी पुनीता देवी, मुख्य सेविका राजकुमारी आदि उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran