शाहजहांपुर (जेएनएन)। ऑल इंडिया उलमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना सैयद महमूद मदनी ने कहा कि मुसलमानों के लिए दुनिया में भारत से अच्छी जगह कोई नहीं। ऑल इंडिया पयाम-ए-इंसानियत फोरम की ओर से आयोजित कार्यक्रम में मौलाना मदनी ने कहा कि भारत में लोग हर समय एक-दूसरे को जानने और समझने के लिए मिलेंगे। आज मजहब का इस्तेमाल कुछ लोग मानवता को बांटने के लिए कर रहे हैं। वृंदावन मथुरा के बाल व्यास एवं भागवत कथा वक्ता शशि प्रकाश शास्त्री ने कहा कि व्यक्ति कलेक्टर, डॉक्टर, इंजीनियर या कथाव्यास भले ही न बने, लेकिन उसे एक अच्छा इंसान जरूर बनना चाहिए। जाति, धर्म के साथ-साथ लोगों ने जानवर और खानपान तक बांट दिए हैं। ऑल इंडिया पयाम-ए-इंसानियत फोरम के महासचिव मौलाना सैय्यद बिलाल हसनी नदवी ने कहा कि जिस तरह से सभी जाति, धर्म के लोगों ने मिलकर देश को आजादी दिलवाई थी। उसी तरह सर्वसमाज को एकजुट होकर समाज में फैल रही बुराइयों को मिटाना होगा। 

ओमकार शब्द मजहबी नहीं : रामदेव

योगगुरु स्वामी रामदेव ने सहारनपुर योग शिविर में कहा कि ओमकार मजहबी शब्द नहीं है। प्रभु के अनंत नाम हैं। उन्होंने बीमारियों को दूर भगाने और निरोग रहने के गुर सिखाए। साथ ही कहा कि ओमकार मजहबी शब्द नहीं है। प्रभु के अनंत नाम हैं, जिन्हें हम पुकारते हैं। इसके बाद ओमकार शब्द का पूरे जोश के साथ उच्चारण कराया। प्राणायाम से ध्यान का अभ्यास कराया। हर आसन के बाद उससे होने वाले लाभ के बारे में विस्तार से बताया। शिविर में पांच हजार से ज्यादा साधक-साधिकाओं ने योगासन किए। उन्होंने शिविर में पहुंचे साधक-साधिकाओं से स्वयं को योग में समर्पित करने का आह्वïान किया। 

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस