शाहजहांपुर, जेएनएन : तेज हवा के साथ गुरुवार को हुई बारिश किसानों की मेहनत पर भारी पड़ी। सैकड़ों हेक्टेयर धान व गन्ना की फसल गिर गई। मौसम विभाग ने 17 सितंबर को भी 66 मिमी तक बारिश की संभावना जताई है।

कई दिनों के बाद मेघ बरसे। गुरुवार सुबह सात बजे से बारिश शुरू हो गई। दोपहर में 12.5 मिमी तक बारिश हुई। शाम छह बजे आंकड़ा 33.5 मिमी पर पहुंचा। इससे मौसम खुशगवार हो गया। लेकिन, फसलों को नुकसान के साथ शहर से लेकर गांव तक फिसलन बढ़ गई। इंसेट

7.6 डिग्री सेल्सियस गिरा पारा, सर्दी का अहसास

गुरुवार को दिन के तापमान में रिकार्ड 7.6 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज हुई। तापमान 25.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा। जबकि न्यूनतम तापमान 23.7 डिग्री सेल्सियस रहा। सुबह आ‌र्द्रता 95 व शाम को 89 फीसद रिकार्ड की गई। 87 किमी प्रति घंटा तक गति की चल सकती हैं हवाएं

मौसम विभाग ने 17 सितंबर को 87 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार की हवा के साथ 66 मिमी तक बारिश की संभावना जताई है। गुरूवार शाम अलर्ट भी जारी किया है। शाहजहांपुर के अलावा बरेली, पीलीभीत आदि समीपवर्ती जिलों के लिए भी चेतावनी जारी की है। इंसेट

विशेषज्ञ की सलाह

जिला कृषि मौसम इकाई प्रभारी व मौसम विशेषज्ञ डा. रोवित कुमार ने किसानों को सावधान किया है। उन्होंने सुझाव दिया है कि जिन खेतों में गन्ना व धान की फसल तेज हवा के कारण गिर गई है, वहां हवा थमने का इंतजार करें। फिर खेत का पानी बाहर निकालने के बाद गन्ने को बांधें। गन्ना सीधा करते समय जड़ उखड़ रही हो तो फावडे की सहायता से मिट्टी डालकर जड़ को दबा दें। इससे अधिकतर पौधे दोबारा सीधे खड़े हो जाएंगे। इंसेट

जलालाबाद में 101 मिमी तक बारिश के आसार

मौसम विभाग ने पूर्वानुमान में 17 सितबंर जलालाबाद में सर्वाधिक 101 मिमी की संभावना जताई है। बंडा में 60 मिमी, भावलखेड़ा में 82.7 तथा पुवायां में 66.9 मिमी तक बारिश की संभावना जताई है।

Edited By: Jagran