संतकबीर नगर: लोकतंत्र के महासमर में पहली बार मतदान करने का अधिकार प्राप्त करने वाले युवा उत्साहित हैं। सभी को चुनाव की तिथि का इंतजार है। युवा वर्ग कह रहा है कि उसका मत उसे जाएगा जो रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य के साथ विकास की बात करेगा। लोकतंत्र की मजबूती के लिए युवा मतदान करने को तैयार है। जागरण के साथ अपने विचार साझा करते हुए नए मतदाताओं ने अपनी प्राथमिकता भी गिनाई। रोजगार के साथ शिक्षा पर हो काम

धनघटा के बभनवली की संजू ने कहा कि सरकार ऐसी होनी चाहिए जिसमें सबका सम्मान हो, अपराध का नाम नहीं हो और शिक्षा के साथ ही रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए कार्य किया जाय। वह कहती है कि लोकतंत्र की मजबूती मतदान से होती है, इसमें वह कोई चूक नहीं करेगी। पहली बार मौका मिला है तो बेहतर नेता चुनेगी। पहली बार मतदान को लेकर उत्साह

विपुल ने कहा कि चुनाव में वह अपने मन की बात सुनकर बेहतर उम्मीदवार के पक्ष में मतदान करेगा। हमें ऐसा नेता चुनना है जो देश और समाज का भला करे। जाति-धर्म से ऊपर उठकर सभी को अनिवार्य रूप से मतदान करना चाहिए। बिना मतदान के अपने मन की सरकार बना पाने की कल्पना अधूरी है। पहली बार मतदान करने को लेकर उत्साह है। खुद करेंगे मतदान, पड़ोसियों को भी जगाएंगे

पहली बार मतदाता बने सूरज ने कहा कि चुनाव में वह बिना किसी अनुराग अथवा द्वेष के मतदान करेगा। यह हमें बेहतर समाज चुनने का मौका देता है। मतदान लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व होता है। सुबह पहले मतदान करने के बाद ही कोई और काम होगा। इसके साथ ही वह अपने आसपास के लोगों को भी मतदान के लिए प्रेरित करेगा मतदान करना हमारी जिम्मेदारी

जिगिना के रमापति ने कहा कि चुनाव लोकतंत्र का पर्व होता है। पहली बार देश का जिम्मेदार नागरिक बनने का मौका मिला है। वह देश को विकास की राह पर ले जाने वाले नेता और दल के पक्ष में मतदान करेगा। मतदान करना हमारी प्राथमिक जिम्मेदारी है। हर पात्र की यह जिम्मेदारी है कि वह बूथ पर जाए और अपनी पसंद का नेता चुने, जो समाज को सही दिशा दे सके। मतदान नहीं करना तो मतदाता बनने से फायदा क्या

सत्यम शुक्ल ने कहा कि एक-एक मत की कीमत होती है। देश बहुमत के मत वाली सरकार से चलता है। सबसे पहले सभी को मतदान के फर्ज को निभाया जाना चाहिए, दूसरे जो भी उत्तम लगे उसके पक्ष में मतदान करना चाहिए। युवा ही बदलाव लाता है। ऐसे में यह हमारा कर्तव्य बनता है कि हम पहले मतदान करें फिर आराम करें।

Edited By: Jagran