संतकबीर नगर : हैंसर विकासखंड के जिगिना ताल में कई वर्षों के बाद विदेशी पक्षियों की मेजबानी का अवसर प्राप्त हुआ है। विदेश से आने वाले पक्षी इस ताल में जमकर कलरव कर रहे हैं। जिगिना ताल में पिछले कई वर्षों से पानी की कमी के कारण दरारें पड़ गई थी ।कभी अच्छे कमल गड्ढों की खेती का व्यवसाय बना जिगिना ताल विगत कई वर्षों से सूखे की चपेट में रहने के कारण निष्प्रयोज्य हो गया था। यहां की मछलियां दूर-दूर तक जाकर बिकती थी। परंतु इस वर्ष अच्छी बारिश के कारण जिगिना ताल में भरपूर मात्रा में जल एकत्रित हुआ।और विदेशी पक्षियों की मेजबानी कर अपने को गौरवान्वित महसूस कर रहा है।ताल में चारों तरफ विदेशी पक्षियों का झुंड अठखेलियां करते हुए दाना चुग रहे हैं।विदेश से आने वाले लालसर पक्षियों का यह ताल इस समय गढ़ बना हुआ है।अभी तक इन पक्षियों के शिकारियों की नजर इन पर नहीं पड़ी है। कमलगट्टे की खेती करने वाले व्यापारियों की इस वर्ष इस ताल से उम्मीदें बढ़ गई हैं।इस ताल में पानी भरने से इस वर्ष कमलगट्टे की अच्छा व्यवसाय होगा तथा अच्छी मात्रा में मछलियां भी प्राप्त होंगी।जिसे बेचकर अच्छी कमाई लोग कर सकेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस