संतकबीर नगर : छुटटा पशुओं से हो रही फसलों की क्षति को लेकर मंगलवार को किसानों का गुस्सा फूट पड़ा। बड़ी संख्या में आक्रोशित किसानों ने मेंहदावल तहसील परिसर का घेराव करते हुए बीएमसीटी मार्ग जाम कर दिया। किसानों के आंदोलन से एक घंटे तक आवागमन ठप रहा। आंदोलनकारियों को जबरन हटाने का प्रयास करने पर किसानों ने पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर आक्रोश जताया। तहसील प्रशासन और स्थानीय पुलिस अधिकारियों के समझाने पर किसानों ने आंदोलन समाप्त किया।

दर्जनों गांवों में छुट्टा पशुओं से गेहूं की फसल की हो रही क्षति से गुस्साए हजारों किसान सुबह करीब 10:30 मेंहदावल तहसील परिसर में पहुंचे। बेसहारा पशुओं को गोशाला में नहीं पहुंचाने से ये फसल बर्बाद कर रहे हैं। तहसील परिसर का घेराव करने के बाद आक्रोशित किसान बीएमसीटी मार्ग पर सुबह 10:30 बजे धरने पर बैठ गए। जिससे आवागमन पूरी तरह ठप हो गया। सड़क के दोनों तरफ ट्रक सहित सैकड़ों गाड़ियों की कतार लग गई। पुलिस मौके पर पहुंची तथा किसानों का समझाने का प्रयास किया लेकिन किसान नहीं मानें। एसडीएम प्रेम प्रकाश अंजोर, सीओ गयादत्त मिश्र, एसओ रवींद्र कुमार गौतम, बीडीओ महावीर सिंह, एडीओ पंचायत मैनुददीन सिद्दीकी मौके पर पहुंचे। ये समझाने का प्रयास किए लेकिन किसान आश्वासन नहीं कार्रवाई चाहते थे। किसानों की मांग थी कि क्षेत्र में जितने भी पशु खुले में घुम रहे हैं, इन्हें तत्काल गोशाला पहुंचाया जाय। किसानों से वार्ता के बाद एसडीएम ने कहा की बुधवार को बीडीओ महावीर सिंह पूरी टीम के साथ छुट्टा पशुओं को पकड़वाकर गोशाला पहुंचाएंगे। इस आश्वासन पर एक घंटे बाद किसानों ने आंदोलन समाप्त किया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस