संतकबीर नगर: कोरोना को हराना है तो टीका निश्चित ही लगवाना है। सोमवार को जिले के ग्यारह स्वास्थ्य केंद्रों के अलावा सरकारी दफ्तरों में टीका लगाया गया। इस अभियान में 1217 युवाओं समेत कुल 2270 लोगों को टीका लगा। 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 853 लोगों ने भी केंद्रों पर पहुंचकर टीका लगवाया। जिला अस्पताल में टीकाकरण के लिए युवाओं की कतार लगी रही। अधिक आयु सीमा वाले लोगों को टीका लगाने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को इंतजार करना पड़ रहा है ।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एस रहमान ने बताया कि टीकाकरण को लेकर युवाओं में उत्साह दिख रहा है लेकिन 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीका लगवाने में रुचि नहीं दिखाई दे रही है, जिसके कारण कर्मियों को अब गांव व कस्बा में जाकर लोगों को जागरूक करना पड़ रहा है। सुबह नौ बजे से सायं पांच बजे तक टीकाकरण किया जाता है। सोमवार को 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए 1100 सौ का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसमें 1217 युवा पहुंचकर टीका लगवाए। इसके अलावा 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिए 1470 का लक्ष्य रखा था जिसमें 853 लोगों ने टीका लगवाया । एआरटीओ कार्यालय में लगा टीका

उपसंभागीय परिवहन कार्यालय में सुबह नौ बजे स्वास्थ्य कर्मी पहुंचे। जहां पर एआटीओ प्रशासन अन्जेय सिंह के नेतृत्व में कार्यालय के अधिकांश कर्मियों को टीका लगाया गया। इसके अलावा वाहन चालकों को भी टीका लगाने का कार्य किया गया। इस मौके पर सत्येंद्र कुमार सिंह, विष्णु कुमार, सुधीर श्रीवास्तव, मनोज श्रीवास्तव समेत अनेक लोग मौजूद रहे । कोरोना जांच में 1820 मिले निगेटिव और चार हुए स्वस्थ

संतकबीर नगर : जनपद कोरोना से मुक्ति की ओर तेजी से बढ़ रहा है। सोमवार को 1824 लोगों की जांच रिपोर्ट में 1820 लोग निगेटिव मिले। चार लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई और चार लोग कोरोना से ठीक भी हो गए। जनपद के नौ ब्लाकों में से दो ब्लाक में ही संक्रमित मिले हैं। जिले में एक्टिव मरीजों की संख्या 67 है।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. मोहन झा ने बताया कि जनपद में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से घटी है। जून माह के अधिकतर दिनों में इकाई में ही पाजिटिव मिले हैं। जिले में अभी तक 8117 संक्रमित मिल चुके हैं, जिसमें से 7960 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं। इसके साथ ही जिला अस्पताल में बने कोविड वार्ड में मात्र 10 लोगों का इलाज चल रहा है। इसके साथ ही गोरखपुर मेडिकल कालेज व अन्य जगहों पर आठ, बस्ती के कैली अस्पताल में दो और लखनऊ में जिले के तीन संक्रमितों की दवा हो रही है। इसके साथ ही 38 लोग अपने घरों में रहकर इलाज कर रहे हैं। जांच के लिए लखनऊ केजीएमसी भेजे गए आरटीपीसीआर की 1109 लोगों की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है।

Edited By: Jagran