सम्भल, जेएनएन : परिवहन विभाग की ओर से सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान वाहन चालकों व अन्य लोगों को जागरूक किया गया। जिससे आए दिन सड़कों पर होने वाले हादसों पर अंकुश लग सके। इसके साथ ही सभी को गुड स्मार्टियन ला के बारे में जानकारी दी गई। बताया कि इसके तहत किसी भी हादसे के दौरान पीड़ित को अस्पताल पहुंचाने के बाद किसी को कोई दिक्कत का सामना न नहीं करना पड़ता है। किसी से कोई पूछताछ नहीं की जाएगी।

बुधवार को सड़क सुरक्षा सप्ताह के छठें दिन परिवहन विभाग की ओर से कार्यक्रम का आयोजन कार्यालय परिसर में किया गया। जहां फस्ट रेसपांडर प्रशिक्षण (प्राथमिक स्तर पर पहुंचने के बाद का प्रशिक्षण) कार्यक्रम के तहत कार्यालय में आने वाले लोगों के साथ वाहन चालकों, परिचालकों व यूनियन पदाधिकारियों को विशेष रूप से जानकारी दी गई। कार्यक्रम के दौरान चालक एवं परिचालक को अधिकतर होने वाली दुर्घटनाओं के कारणों के प्रति सतर्कता बरतने के लिए कहा। साथ ही किसी दुर्घटना में घायल व्यक्तियों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के बारे में भारत सरकार द्वारा बनाए गए गुड स्मार्टियन ला की जानकारी दी गयी। इस बारे में एआरटीओ प्रवर्तन अम्ब्रीश कुमार ने बताया कि यदि किसी हादसे में कोई व्यक्ति घायल हो जाता है तो घायल को अस्पताल पहुंचाने पर संबंधित व्यक्ति से किसी प्रकार की कोई पूछताछ नहीं की जाएगी। इसलिए ऐसे मामलों में बिना किसी झिझक या डर के पीड़ित को अस्पताल पहुंचाया जा सकता है। इस दौरान कार्यक्रम में एआरटीओ प्रशासन डा. पीके सरोज, बस यूनियन की ओर से मोहम्मद गुलफाम, मोहम्मद नावेद, अखलाक तथा चालक में अतर सिंह, मोहम्मद अशरफ, योगेंद्र यादव, राकेश सिंह के साथ ही कार्यालय के अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran