सम्भल: रमजान महीने में इस बार महंगाई की मार से रोजेदारों को परेशानी का संकट झेलना पड़ रहा है। रोजा खोलने के दौरान उपयोग में आने वाली खाद्य सामग्री के दामों में काफी हद तक ऊपर पहुंच गए है। फलों के दामों में इतना उछाल आया है कि लोग खरीदने में भी सोच समझ रहे है। इस तपिश भरी तेज धूप और गर्मी के बीच शाम को इफ्तार के साथ खजूर, फल और लजीज पकवानों से रोजा खोलते हैं। रोजाना खजूर, फल उसकी पहुंच से दूर हो गए हैं।

जिले में गरीब से लेकर रसूख वाले रोजेदार दिन भर की भूख प्यास के बाद पौष्टिक आहार से रोजा खोलना पसंद करते है। खुद के साथ घर पर बच्चों की भी व्यवस्था करते है, लेकिन महंगाई की वजह से उसकी जेब खाली हो रही है। मौजूदा समय देखें तो फलों के दामों में पिछले साल की तुलना में 10 से 20 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी हुई है। रोजा खोलने के दौरान सबसे पहले खजूर खाने की प्रथा है। खजूर भी महंगाई से अछूता नहीं है। हालांकि इस वर्ष अमरूद और पपीता के दामों में काफी उछाल आया है जो रोजेदारों की पसंद रहते है। फलों के दामों में उछाल आने से रोजेदारों को भी परेशानी भुगतनी पड़ रही है।

दाम (प्रति किलो रुपये में)

फल पुराने रेट नए रेट

केला 40 50

अमरूद 80 100

पपीता 25 40

अनार 80 100

सेब 100 120

तरबूज 30 20

संतरा 70 80

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप