सम्भल: शारदीय नवरात्र के पहले दिन नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में मंदिरों में पूजा अर्चना करने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ दिखाई दी। महिलाओं व युवतियों ने व्रत रखा। मंदिरों में पूजा अर्चना करते समय श्रद्धालुओं ने शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया। लोग एक दूसरे से सटकर लाइन में लगे हुए थे। ऐसे में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया।

नवरात्र के पहले दिन घरों में मां शैल पुत्री की पूजा अर्चना की। सुबह से घरों व मंदिरों पर भजन कीर्तन प्रारंभ हो गए थे जिससे पूरा माहौल भक्तिमय हो गया। नगर के चामुंडा मंदिर में सुबह से ही श्रद्धालु मां शैलपुत्री की पूजा करने के लिए आने शुरू हो गए। मंदिर में भीड़ अधिक होने की वजह से भक्तों को लाइन में लगकर घंटों अपनी बार का इंतजार करना पड़ा। कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से सरकार ने गाइड लाइन के अनुसार पूजा अर्चना करने की अनुमति दी है। सरकार की गाइड लाइन जारी करने के बाद भी नगर के चामुंडा मंदिर पर कोरोना को लेकर कोई व्यवस्था नहीं की गई। श्रद्धालुओं की भारी भीड़ एक दूसरे से सट कर खड़े थे। कई लोगों के मुंह पर मास्क भी नहीं था। मंदिर में पुलिस व समिति द्वारा न शारीरिक दूरी का पालन कराया गया और न ही सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई। ऐसे में संक्रमण फैलने का खतरा अधिक हो गया। हयातनगर के चामुंडा मंदिर पर भी सुबह से ही श्रद्धालुओं पूजा अर्चना करने के लिए पहुंचने लगे थे। श्रद्धालुओं ने मां दुर्गा की प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा की। मंदिर समिति की ओर से भक्तों को शारीरिक दूरी का पालन कराया गया। घुंघागावली गांव स्थित चामुंडा देवी मंदिर पर भी सुबह से गांव व आसपास के श्रद्धालु आने शुरू हो गए थे। महिलाओं और युवतियों ने मां की पूजा अर्चना कर की। फत्तेहपुर भाऊ स्थित प्रकटेश्वर महादेव मंदिर पर हवन का आयोजन किया जिसमें श्रद्धालुओं ने आहुतियां देकर मां की पूजा अर्चना की। मां शैल पुत्री की पूजा-अर्चना को उमड़ी भीड़

बहजोई : कोरोना संकट काल में शारदीय नवरात्र के पहले दिन दिन नगर व ग्रामीण अंचलों में स्थित मंदिरों में मां दुर्गा के पहले स्वरूप शैल पुत्री की पूजा अर्चना करने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी । महिलाओं व युवतियों ने व्रत रखा।

शनिवार को तड़के चार बजे से ही नगर के रेलवे रोड स्थित मां भगवंत पुर देवी मंदिर परिसर में मां शैल पुत्री की पूजा अर्चना को महिलाओं व बच्चों, युवतियों ने मुंह पर मास्क लगाकर पहुंचना शुरू कर दिया था। मंदिर में पूजा करने के लिए उन्हें सोशल डिस्टेंसिग के साथ लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार करना पड़ रहा था। मंदिर में शाम को महाआरती के बाद प्रसाद वितरण किया गया। उधर, नगर के काली मंदिर, शीतला माता मंदिर, मां मंदिर, लक्ष्मी नारायण मंदिर में भी श्रद्धालुओं ने पहुंचकर पूजा अर्चना की और प्रसाद वितरण किया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस