सहारनपुर, जेएनएन। नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन का आरोप झेल रही बसपा ने साफ तौर पर कहा है कि यह काला कानून वापस होने तक बसपा का विरोध जारी रहेगा। इस संबंध में बसपा सांसद पहले ही राष्ट्रपति को ज्ञापन दे चुके हैं। बसपा नेताओं ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाया है कि वह हिदु-मुस्लिम को बांटकर लोकतंत्र को खत्म करने की शुरुआत कर रही है।

शुक्रवार को बसपा सांसद हाजी फजलुर्रहमान, प्रभारी नरेश गौतम, पूर्व विधायक जगपाल सिंह व महीपाल माजरा ने देहरादून चौक स्थित पार्टी कार्यालय पर पत्रकारों से वार्ता की। बसपा सांसद ने कहा कि सोशल मीडिया पर गलत प्रचार प्रसार किया जा रहा है। बसपा ने राज्यसभा व लोकसभा में इस बिल के विरोध में वोट दिया था। इतना ही नहीं सभी बसपा के सभी सांसदों ने 17 दिसंबर को राष्ट्रपति से मुलाकात कर उन्हें ज्ञापन दिया था कि संसद में पारित सीएबी को लेकर पूरे देश में जबरदस्त आक्रोश है और जगह-जगह धरने प्रदर्शन किये जा रहे हैं। इसलिए इस असंवैधानिक विभाजनकारी कानून को तुरंत वापस लिया जाए। जामिया मिलिया में जिस प्रकार पुलिसिया कार्रवाई की गई है, उसकी न्यायिक जांच की जाए। उन्होंने कहा कि धर्म के आधार पर सिटीजनशिप देकर मुस्लिमों को प्रताड़ित करने का काम किया जा रहा है। पूर्व विधायक जगपाल सिंह व महीपाल माजरा ने कहा कि सरकार हिदु-मुस्लिम को बांटने का काम कर रही है। अदालत के आदेश की आड़ में किसानों का उत्पीड़न किया जा रहा है। गन्ने की पत्ती व पराली जलाने के नाम पर उनके ऊपर मुकदमें दर्ज कर जुर्माना वसूला जा रहा है। जबकि अदालत का आदेश 14 दिन के भीतर गन्ना भुगतान दिलाने का भी है मगर अधिकारियों द्वारा उस आदेश का पालन नहीं कराया जा रहा है। इस मौके पर पूर्व जिला पंचायत चेयरमैन हाजी चौधरी इरशाद, जिला पंचायत चेयरमैन प्रतिनिधि माजिद अली, बसपा जिला अध्यक्ष योगेश कुमार, पंजाब प्रभारी रणधीर बेनीवाल, नवीन खटाना, प्रभारी कुलदीप बालियान, राव बाबर, इमरान प्रमुख, कार्यालय सचिव नरेश कुमार, एसआलम लोधी कुमार, महानगर अध्यक्ष प्रताप सिंह आदि रहे। वार्ता के बाद बसपा नेताओं ने जिलाधिकारी आलोक कुमार पांडेय से उनके कार्यालय में मुलाकात कर कहा कि शहर का अमन-चैन बनाएं रखें और लोगों को अपनी बात कहने दें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस