सहारनपुर : बसपा सुप्रीमो मायावती ने चंद्रशेखर से पल्ला झाड़ा तो चंद्रशेखर ने भी कह दिया कि ना तो मैंने कुछ देखा और ना ही सुना। मैं मीडिया की बात पर विश्वास नहीं कर सकता। पहले मैं खुद देखूंगा, परखूंगा और इसके बाद बोलूंगा। बसपा राजनीतिक दल है और इससे उनका कोई रिश्ता नहीं है। मायावती हमारे समुदाय की हैं और रिश्ते में उनकी बुआ हैं। हमारे संबंध विच्छेद भी हो सकते हैं। कभी-कभी बहन-भाई के संबंध भी विच्छेद हो जाते हैं। रविवार को अपने आवास पर मायावती के बयान पर चंद्रशेखर ने यह प्रतिक्रिया दी। बता दें कि दो दिन पहले चंद्रशेखर ने मायावती को अपनी बुआ बताया था। इस पर बसपा प्रमुख ने रविवार को प्रेसवार्ता में स्पष्ट कर दिया कि कुछ नौजवान उनसे रिश्तेदारी का दावा कर रहे हैं, उनकी कोई रिश्तेदारी नहीं हैं।

कई राजनीतिक दलों के लोगों से मिलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मुझे से प्रतिदिन सैंकड़ों लोग मिल रहे हैं। मुझे नहीं मालूम, इनमें कौन क्या है। राजनीतिक लोग आते हैं, तो यह केवल शिष्टाचार मुलाकात है। कांग्रेस से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। इमरान मसूद से मेरे व्यक्तिगत संबंध हैं। हमारा संगठन भाजपा को हराने के लिए कटिबद्ध है। यदि बसपा भाजपा को हराने की स्थिति में हुई तो क्या बसपा से गठबंधन होगा, इस सवाल को उन्होंने यह कहकर टाल दिया कि अभी बहुत समय है। वक्त पर इसका फैसला किया जाएगा।

Posted By: Jagran