सहारनपुर, जेएनएन। जिले में बदलते मौसम के दौरान हुई बारिश तथा सर्द गर्म मौसम के कारण अनेक बीमारियों ने पांव पसारने शुरू कर दिए हैं। जिला अस्पताल से लेकर प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों की भीड़ बढ़ती जा रही है। उधर, बारिश से गेहूं, सरसों, चना व आम की फसल खराब होने की संभावना से किसानों में मायूसी है।

सहारनपुर में विगत करीब 20 दिनों से मौसम में बार बार बदलाव हो रहा है, जिसके कारण सर्दी, वायरल बुखार, खांसी, निमोनिया, टायफायड तेजी से फैल रहा है। जिला अस्पताल में 15 दिन तक जहां 200 से 250 मरीज इलाज के लिये पहुंच रहे थे। वहीं मौसम में बदलाव के चलते मरीजों की संख्या दो गुना के करीब हो गई, जिसमें बच्चों की संख्या खासी है। जिला अस्पताल में शनिवार को इन बीमारियों से ग्रस्त करीब 650 मरीज इलाज के लिये पहुंचे। इनमें ज्यादातर मौसमी बीमारियों से पीड़ित थे। इसके साथ ही डायबिटीज, बीपी, हार्ट, दमा व अन्य सांस जनित बीमारियों के मरीजों की संख्या भी बढ़ी है।

-----

इन बीमारियों के शिकार हो रहे लोग

इन दिनों तेज बुखार, सिरदर्द, शरीर में अकड़न, हाथ-पैर में दर्द, वायरल फीवर, सिरदर्द, सर्दी, जुकाम, बुखार, बदन दर्द, डायरिया, उल्टी, दस्त, बदन दर्द, सिरदर्द, पेटदर्द, बुखार के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

---

ऐसे करें बचाव

लोगों से हाथ मिलने से बचें, आसपास गंदगी न फैलने दें, जल जमा नहीं हो होने दें, नालियों को साफ रखें, शाकाहारी भोजन कर पानी खूब पीएं, जंकफूड, चाकलेट, कोल्ड ड्रिक के सेवन से बचें, मौसमी सब्जी, फलों, साग, सब्जी का सेवन अधिक करें, मेडिकल स्टोर से इन बीमारियों की दवा खरीदकर नहीं खाएं।

----

इनका कहना है..

बुखार के मरीजों की संख्या बढी है, तेज बुखार, सिरदर्द, पेट दर्द, मांस पेशियों में दर्द के लक्षण मरीजों में देखने को मिल रहे हैं, मरीजों को ऐसे लक्षण दिखने पर चिकित्सक से उपचार कराना चाहिए, तथा बाहरी खाद्य पदार्थों से परहेज कर पानी को उबाल कर पीना चाहिए। मरीजों से संक्रमण फैलने की संभावना रहती है, इसलिये सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

-डा. संजीव मिगलानी, वरिष्ठ चिकित्सक

--

--------

बारिश से फसलों पर मंडराया संकट

तेज हवाओं के साथ बे-मौसम बारिश किसानों के लिए आफत साबित हुई है। बारिश व तेज हवाओं की सबसे अधिक मार गेहूं व सरसों की फसलों पर पड़ी है। चने की फसल के अलावा आम की फसल प्रभावित होने के आसार बन गए है। बारिश से आम में हर्रा रोग का प्रकोप बढ़ने की संभावना है। वैसे यह बारिश मंसूर व मटर के अलावा तमाम सब्जी की फसलों के लिए फायदेमंद है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस