Move to Jagran APP

पहले शौहर ने दिया तीन तलाक, अब मामा से हलाला की शर्त

तीन तलाक देकर महिला को बेघर करने वाले ससुराली अब महिला को वापस लेने के लिए उस पर पति के अधेड़ मामा से हलाला कराने का दबाव बना रहे हैं।

By JagranEdited By: Published: Mon, 22 Jul 2019 10:32 PM (IST)Updated: Tue, 23 Jul 2019 06:25 AM (IST)
पहले शौहर ने दिया तीन तलाक, अब मामा से हलाला की शर्त

सहारनपुर, जेएनएन। तीन तलाक देकर महिला को बेघर करने वाले ससुराली अब महिला को वापस लेने के लिए उस पर पति के अधेड़ मामा से हलाला कराने का दबाव बना रहे हैं। परेशान महिला ने डीएम से इंसाफ की गुहार लगाई है। पुलिस ने महिला के बयान दर्ज कर लिए हैं।

दरअसल कोतवाली सहारनपुर नगर के एक मोहल्ला निवासी महिला फिजियोथेरेपिस्ट ने पिछले माह महिला थाने में हरिद्वार के थाना रानीपुर के एक गांव निवासी पति व अन्य ससुरालियों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, मारपीट व छेड़छाड़ की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। सोमवार को पीड़िता डीएम आलोक कुमार पांडेय के पास शिकायती पत्र लेकर पहुंची। बाद में मीडिया के समक्ष अपना पक्ष रखा। कहा कि 30 जनवरी 2017 को पति ने उसे तीन तलाक दे दिया। समझौता हुआ तो पति साथ रखने को राजी हो गया, लेकिन अपने 50 वर्षीय मामा या भाई से हलाला की शर्त रख दी। वह राजी नहीं हुई तो शौहर उससे होटलों में मिलता रहा और शारीरिक संबंध बनाए। वह दो बार गर्भवती हुई तो गर्भपात कराया। उसने वापस ससुराल ले जाने की बात की तो पति ने दारुल उलूम का फतवा दिखाकर हलाला कराने की शर्त रख दी। डीएम ने कानून के दायरे में मदद का भरोसा दिलाया। सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के खिलाफ केस लड़ने वाली फरहा फैज भी जिलाधिकारी के पास पीड़िता के साथ पहुंचीं। कहा कि आज के दौर में यदि कोई पति अपनी पत्नी को पुन: प्राप्त करने के लिए हलाला जैसी शर्त रखता है, तो उन्हें सभ्य समाज में नहीं रखा जा सकता।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.