सहारनपुर, जेएनएन। दिव्यांग आइएएस इरा सिघल ने अभिभावकों का आह्वान किया कि वे बेटियों को आगे बढ़ने का अवसर दें, यदि वे अवसर नहीं देंगे तो समाज भी कभी अवसर नहीं देगा। उन्होंने युवतियों से कहा कि वे अपनी क्षमताओं को पहचाने और स्वयं आगे बढ़ने का रास्ता बनाएं। जनमंच सभागार में शनिवार को महिला सशक्तीकरण सम्मेलन का आयोजन नगर निगम, स्मार्ट एजुकेशन एंड वेलफेयर एसोसिएशन, परवे•ा सागर फाउंडेशन व हीलिग लाइव्स द्वारा किया गया था। उद्घाटन आइएएस इरा सिघल, दुबई से आई सामाजिक कार्यकर्ता जॉनी विश्वनाथ, नगरायुक्त ज्ञानेन्द्र सिंह, लखनऊ से आई समाज सेविका डा. नीलू व दिल्ली से आए समाजसेवी सुरेंद्र विधूड़ी तथा महेन्द्र तनेजा ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। मुख्य वक्ता इरा सिघल ने महिलाओं को अपने दिव्यांग होने और अनेक बाधाओं के बावजूद आइएएस तक पहुंचने के सफर को विस्तार से बताते हुए युवतियों को संकल्प लेकर आगे बढ़ने का आह्वान किया। मुख्य अतिथि जॉनी विश्वनाथ ने कहा कि मेरी डिक्शनरी में नामुमकिन शब्द नहीं है। यदि हम कोई संकल्प लें तो रास्ता खुद ब खुद निकल आता है। मेयर संजीव वालिया ने कहा कि इरा सिघल केवल महिलाओं की प्रेरणा ही नहीं है बल्कि इस बात की प्रतीक भी हैं कि महिला किसी भी क्षेत्र में हों, वे एक नया इतिहास लिख रही हैं।

नगरायुक्त ज्ञानेन्द्र सिंह ने कहा कि शहर में महिलाओं की सुरक्षा के लिए एक हजार कैमरे लगवाए जा रहे हैं। गरीबों के साथ ही महिलाओं की स्वास्थ्य जांच के लिए हेल्थ एटीएम भी नगर निगम द्वारा शहर में लगवाएं जा रहे हैं। इससे पूर्व सेवा व पीएसएफ के संस्थापक परवे•ा सागर ने स्मार्ट एजुकेशन एंड वेलफेयर एसोसिएशन व परवे•ा सागर फाउंडेशन के संबंध में जानकारी दी। कार्यक्रम संयोजक नीना धींगड़ा, एम तनवीर व परवे•ा सागर ने बुके भेंटकर व माल्यार्पण कर अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर बुंदेलखंड से आए कलाकारों द्वारा लोक गीत आदि भी प्रस्तुत किए। सम्मेलन का संचालन डा. वीरेंद्र आ•ाम ने किया। आयोजन को सफल बनाने में कार्यक्रम संयोजक एम. तनवीर, संयोजिका नीना धींगड़ा, डा.एस नीलू, जीनत आफताब, महेश धींगड़ा, ईशान, मेघा गर्ग, उस्मान, खुशी साहा, विभु, अरविद शुक्ला, साधना शुक्ला, सैयद दुआ, खुशबू, शमी, आयशा आदि का सहयोग रहा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस