जागरण संवाददाता, रामपुर : कोरोना संकट के समय में जब आम आदमी आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहा है, ऐसे में मातृ वंदना योजना महिलाओं के लिए काफी लाभकारी सिद्ध हो रही है। जनवरी 2017 में इसकी शुरुआत हुई थी। तब से अब तक 43288 महिलाएं इसका लाभ ले चुकी हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुबोध कुमार के अनुसार पात्र महिलाओं को निरंतर योजना का लाभ मिल रहा है। इससे उन्हें ऐसे समय में काफी सहायता मिल रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश स्तर पर हेल्पलाइन नंबर 7998799804 जारी किया गया है। इस पर लाभार्थी आवेदन संबंधी तथा भुगतान न होने से संबंधित समस्याओं के निराकरण को लेकर बात कर सकते हैं। इस पर कॉल करने पर लाभार्थियों की समस्या का निराकारण किया जाएगा।

क्या है प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना : जच्चा-बच्चा के बेहतर स्वास्थ्य के लिए केंद्र सरकार द्वारा जनवरी 2017 में इस योजना की शुरुआत की गई थी। इसके अंतर्गत पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को पोषण के लिए पांच हजार रुपये की धनराशि तीन किस्तों में उपलब्ध करवाई जाती है। इसमें पंजीकरण करवाने के साथ ही गर्भवती को एक हजार रुपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने पर गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किस्त के रूप में दो हजार रुपये दिए जाते हैं। उसके बाद बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और प्रथम चक्र का टीकाकरण पूर्ण होने पर तीसरी किस्त के रूप में एक बार फिर दो हजार रुपये लाभार्थी को दिए जाते हैं। लाभ पाने के लिए महिला की उम्र 19 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए। भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में किया जाता है, जिसका आधार से लिक होना आवश्यक है। उन्होंने बताया कि जनपद को 43331 का लक्ष्य मिला था, जिसमें से 43288 महिलाएं इसका लाभ ले चुकी हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस