मिलक, जासं : भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष आदेश शंखधार ने यूरिया की किल्लत के कारण हो रही कालाबाजारी पर अंकुश लगाने के लिए शुक्रवार को मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन तहसीलदार को सौंपा।

उन्होंने कहा कि जनपद के किसान यूरिया के लिए सुबह से ही सहकारी समितियों पर लाइनों में लग जाते हैं। घंटों तक लाइनों में लगने के बाद भी उन्हें सिर्फ धक्के और पुलिस की लाठियां ही मिलती हैं। क्योंकि सहकारी समितियों के कर्मचारी अपने मिलने वालों या क्षेत्र के प्रभावशाली व्यक्तियों के दबाब में कार्य कर रहे हैं। कुछ कर्मचारी स्थानीय होने के कारण केवल अपने गांव के लोगों का विशेष रूप से ध्यान रखकर यूरिया का वितरण कर रहे हैं। कुछ समितियों के कर्मचारी आने वाले ग्राम प्रधान के चुनाव की तैयारी में भी हैं। वह जिस गांव से चुनाव लड़ेंगे उस गांव के किसानों को विशेष महत्व दिया जा रहा है। पूरे जनपद में यूरिया की कालाबाजारी बहुत बड़े पैमाने पर की जा रही है। बिचौलियों ने समितियों से अवैध रूप से यूरिया खरीद कर भंडार कर लिया है। जिसके कारण किसान परेशान हैं। दुकानदार भी किसानों को लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। यूरिया की एक बोरी 400 से 500 रुपये में बेच रहे हैं, इसके साथ जबरन पेस्टिसाइड किसानों को दे रहे हैं। इससे किसान परेशान हैं। ज्ञापन सौंपकर किसानों को पर्याप्त मात्रा में यूरिया उपलब्ध कराने की मांग की। इस मौके पर डॉ.राजीव गंगवार, वीरेश शर्मा, सोनू शर्मा आदि मौजूद रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस