रामपुर, जेएनएन। धोखाधड़ी के मामले में सीतापुर जेल में बंद सांसद आजम खां, उनकी पत्नी विधायक डॉ. तजीन फात्मा और बेटे अब्दुल्ला की मंगलवार को कोर्ट में पेशी हो सकती है। मंगलवार को अदालत में अकेले सांसद से जुड़े 13 मामलों में जमानत अर्जी पर सुनवाई होनी है। इसके अलावा सांसद की पत्नी और बेटे से जुड़े कुछ मामलों में भी जमानत अर्जी पर सुनवाई होनी है।

यह है मामला

सांसद के खिलाफ जिन मुकदमों में जमानत पर सुनवाई होनी है, उनमें ज्यादातर शहर कोतवाली के हैं। सपा शासनकाल में पुलिस और प्रशासन ने यतीमखाना बस्ती के मकानों पर बुलडोजर चलवाया था। सत्ता परिवर्तन के बाद इन मकानों में रहने वाले दर्जन भर लोगों ने सांसद आजम समेत पुलिस अधिकारियों और सपाइयों के खिलाफ मुकदमे कराए थे। इनमें सांसद पर भैंस चोरी, बकरी चोरी आदि के भी आरोप हैं। इन मुकदमों में जमानत के लिए सांसद की ओर से प्रार्थना पत्र दिए गए हैं, जिन पर सुनवाई होगी। इसके अलावा अब्दुल्ला के दो जन्म प्रमाण पत्र संबंधी मुकदमे की भी सुनवाई नियत है। अब्दुल्ला के दो जन्म प्रमाण पत्र का मुकदमा सिविल लाइंस कोतवाली में दर्ज हुआ था।

पूर्व सीओ आले हसन भी आज दर्ज कराएंगे बयान

सांसद आजम के करीबी अधिकारियों में शामिल रहे पूर्व सीओ आले हसन खां भी मंगलवार को अपने बयान दर्ज कराने आएंगे। उनके खिलाफ 55 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें 27 मुकदमे जौहर यूनिवर्सिटी के लिए किसानों की जमीनें कब्जाने के आरोप के हैं। इन मुकदमों में वह फरार चल रहे थे। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही थी। लुक आउट नोटिस भी जारी किया गया था। बाद में पूर्व सीओ हाईकोर्ट चले गए थे। हाईकोर्ट ने उन्हें बयान दर्ज कराने के आदेश दिए थे। अभी तक वह दो बार बयान दर्ज कराने आ चुके हैं।

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस