रामपुर : शहर में दीपावली का पर्व धूमधाम के साथ मनाया गया। इस दौरान जिलेभर में करोड़ों रुपये की आतिशबाजी धुआं हो गई। इससे शहर में आम दिनों के मुकाबले वायु प्रदूषण काफी बढ़ गया। इससे सांस के रोगियों को सांस लेने में खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

दीपावली पर हर साल की तरह इस बार भी जमकर आतिशबाजी हुई। शहर में जगह-जगह आतिशबाजी के बाजार सजे हुए थे। प्रशासन की ओर से सौ से अधिक दुकानदारों को आतिशबाजी की बिक्री के लिए अस्थायी लाइसेंस जारी किए गए थे। नैनीताल हाईवे पर पुलिस कंट्रोल रूम के पास फायर ब्रिगेड की जमीन पर, गांधी समाधि के पास, अजीतपुर में शाहबाद रोड के पास आदि स्थानों पर आतिशबाजी के बाजार सजे थे। इसके अलावा शहर के गली-मुहल्लों और रास्तों पर भी अवैध तरीके से आतिशबाजी बेची गई। जिले की अन्य तहसीलों में भी प्रशासन की ओर से आतिशबाजी की बिक्री के लिए लाइसेंस जारी किए गए थे। एक अनुमान है कि प्रत्येक दुकानदार ने करीब एक से दो लाख तक का माल दुकान में लगाया था। दीपावली की देर रात तक ज्यादातर दुकानों पर सारी आतिशबाजी बिक गई। इस तरह वैध और अवैध रूप से करोड़ों रुपये की आतिशबाजी बिकी। लोगों ने करोड़ों रुपये की आतिशबाजी से जिलेभर में दीपावली का पर्व धूमधाम के साथ मनाया। वहीं ज्यादा आतिशबाजी से आम दिनों के मुकाबले वातावरण में वायु प्रदूषण काफी बढ़ गया। इससे सांस के रोगियों को सांस लेने में काफी परेशानी हुई। जिससे चिकित्सकों के यहां सांस के मरीजों की संख्या आम दिनों के मुकाबले काफी बढ़ गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस