रामपुर : कृष्णा विहार में श्री कृष्ण छठी महोत्सव में अंतिम दिन कलाकारों ने भगवान श्री कृष्ण का विवाह, सुदामा चरित्र, मीराबाई लीला, सत्यभामा/रुकमणी लीला, महाकाली की लीला का बहुत ही सुंदर ढंग से मंचन किया, जिसे देखने के लिए लोगों की देर रात तक भीड़ लगी रही।

बुधवार को 11वें श्री कृष्ण छठी महोत्सव के मंचन का शुभारंभ मुख्य अतिथि भाजपा नेता सूर्य प्रकाश पाल और आकाश सक्सेना हनी ने संयुक्त रूप से भगवान बांके विहारी जी की आरती और तिलक कर किया।

इसके बाद राहुल जी राहुल के ग्रुप वैष्णवी कला मंच के कलाकारों ने भगवान श्री कृष्ण के विवाह की लीला से मंचन शुरू किया। इसमें रुकमणि से श्रीकृष्ण विवाह के मंचन को देख लोग खूब झूमे। इसके बाद भगवान श्रीकृष्ण के मित्र गरीब सुदामा श्रीकृष्ण से मिलने उनके महल पहुंचते हैं, लेकिन उनके दरबारियों ने सुदामा को रोक दिया। बार-बार आग्रह करने के बाद दरबारियों ने श्री कृष्ण को सुदामा के आने की सूचना दी। इस पर जब उन्होंने सुना कि उनका पुराना मित्र सुदामा उनसे मिलने आया है तो वे नंगे पैर दौड़े चले आए और सुदामा को गले से लगा लिया, इसे देख सभी दर्शक भाव विभोर हो गए। इसके बाद मीराबाई की भक्ति, सत्यभामा ओर रुकमणी के बीच श्री कृष्ण को लेकर तनातनी, इसके बाद श्रीकृष्ण ने सत्यभामा का घमंड चूर करने की लीला की। इसके बाद महाकाली की लीला का मंचन हुआ। अंत में सभी भक्तों को प्रसाद वितरित कर 11वें श्री कृष्ण छठी महोत्सव का समापन किया गया। इससे पूर्व अतिथियों को आलोक सक्सेना और रवि किशन सक्सेना ने स्मृति चिह्न भेंट किए।

इस मौके पर इमरान खान, राज सक्सेना, अंकित ¨सह, अमन माली, चुनमुन ¨सह, रमेश सक्सेना, आशीष सक्सेना, सुरेंद्र सैनी, किशन दिवाकर, ¨रकू ¨सह, सुनीला ¨सह, जावित्री सहायक, भावना ¨सह, डोली सक्सेना, गोधन दिवाकर, हिमांशु यादव आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran