रामपुर, जेएनएन। ई-रिक्शा चालक को बदमाशों द्वारा गोली मारकर मौत के घाट उतारने के मामले में पुलिस आरोपितों को पकड़ने में दूसरे दिन भी नाकाम साबित रही। पुलिस की पांच टीमें बदमाशों की धरपकड़ को जगह-जगह करती रही छापेमारी। देर शाम गमजदा परिजनों ने किया मृतक का अंतिम संस्कार।

मुहल्ला टांडा हुरमतनगर निवासी नेमचंद के 30 वर्षीय पुत्र प्रेमशंकर को बुधवार की शाम पांच बजे बाइक सवार बदमाशों ने पीछे से गोली मारकर उसकी हत्या कर मौके से फरार हो गए थे। घटना की जानकारी जंगल में आग की तरह फैल गई। आनन-फानन में स्थानीय पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे थे। पुलिस द्वारा घायल को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। ई-रिक्शा चालक की सरेराह दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या से जहां स्थानीय प्रशासन में हड़कंप मच गया था। वहीं पुलिस अधीक्षक व अपर पुलिस अधीक्षक ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर हत्याकांड का जल्द खुलासा करने की आदेश दिया था। गुरुवार शाम तक पुलिस हत्याकांड का खुलासा करने में पूरी तरह नाकाम साबित हुई। पुलिस की पांच टीमें खुलासे में लगी रहीं, लेकिन कहीं कोई सुराग हाथ नहीं लग पाया। स्थानीय प्रशासन ने मौके का एक बार फिर मुआयना किया और वहां आसपास मौजूद लोगों से बातचीत कर हत्या का सुराग तलाशने का प्रयास किया। कोतवाल बृजेश कुमार यादव के मुताबिक हत्याकांड खुलासे को लेकर तीन टीमों का गठन किया गया है। एक टीम कस्बा चौकी प्रभारी पुष्कर सिंह मेहरा, दूसरी टीम ईसानगर चौकी प्रभारी अमित कुमार शर्मा, जबकि तीसरी टीम स्वयं उनके नेतृत्व में काम कर रही है। इसके अलावा एसओजी व सर्विलांस की टीमें भी तेजी के साथ काम कर रही हैं। हत्याकांड के संबंध में कुछ अहम सुराग उन्हें हाथ लगे हैं। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरों से लेकर अन्य ची•ाों तक की बारीकी से जांच पड़ताल की जा रही है। कहा कि घटना का जल्द खुलासा किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस