रामपुर : चाय विक्रेता से मारपीट और होटल में तोड़फोड़ के आरोप में गंज कोतवाल समेत 20 पुलिस कर्मी फंस गए हैं। सभी के खिलाफ अदालत में परिवाद दर्ज हुआ है।

यह परिवाद मुहल्ला पंखेवालान बमनपुरी गेट निवासी शाह आलम पुत्र अमीर शाह ने कराया है। उनका नैनीताल हाईवे पर बमनपुरी गेट के पास चाय का होटल है। उनका आरोप है कि 22 अप्रैल की रात करीब साढ़े नौ बजे वह होटल पर चाय बना रहा था। इसी दौरान गंज कोतवाली प्रभारी नरेंद्र त्यागी दो सरकारी जीपों में 15-20 पुलिस कर्मियों के साथ आए। होटल पर आते ही पुलिस कर्मियों ने उसके साथ मारपीट शुरू कर दी। होटल का सामान फेंक दिया। वहां बैठे ग्राहकों के साथ भी मारपीट की। दुकान में रखे रुपये भी लूट लिए। शोर मचाने पर गंज कोतवाल झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देकर चले गए। वह इस घटना की शिकायत लेकर एसपी से मिला, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। इस पर उसने अदालत में प्रार्थना पत्र दिया और आरोपित पुलिस र्किमयों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के आदेश पुलिस को दिए जाने की मांग की। पीड़ित ने बताया कि अदालत ने उसके प्रार्थना पत्र को परिवाद के रूप में दर्ज कर लिया है। अदालत 16 अगस्त को बयान दर्ज करेगी। पीड़ित ने बताया कि उसने मानवाधिकार आयोग में भी घटना की शिकायत की है।

उधर, गंज कोतवाल नरेंद्र त्यागी ने बताया कि 23 अप्रैल को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना था। इससे पहले पुलिस शांति व्यवस्था के लिए गश्त पर थी। इस दौरान देर रात तक चाय के होटल पर भीड़-भाड़ देखकर पुलिस वहां रुकी थी और होटल संचालक को भीड़ न लगाने के लिए मना किया था। उसके साथ मारपीट नहीं की थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस