रायबरेली : लखनऊ-प्रयागराज हाईवे के किनारे सोमवार की रात कार सवार बदमाशों ने एक होटल व्यवसायी पर फायर झोंक दिया। उसे मरणासन्न हालत में जिला अस्पताल लाया गया, मगर तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। वारदात को अंजाम देने वाले बदमाश अमेठी की ओर भाग निकले। रंजिशन पांच लोगों पर हत्या करने का मुकदमा दर्ज कराया गया है।

मूलरूप से शहर के गुरुनानक नगर निवासी रोहत सिंह गांधी पुत्र स्व. हरवंश सिंह गांधी का मई में वहीं पड़ोस के जसप्रीत सिंह से झगड़ा हो गया था। जिसके बाद से वह सिविल लाइंस के निकट फिरोज गांधी कॉलोनी में रहने लगा था। शहर के कचहरी रोड पर वह एक होटल चलाता था। रक्षाबंधन के दिन वह अपनी बहन की ससुराल गुरुनानक नगर आया था। वहीं से वह वापस लौट रहा था। रतापुर से सिविल लाइंस आते वक्त रास्ते में आइटीआइ मोड़ है। हाईवे से महज कुछ दूरी पर रात करीब आठ बजे कार सवार बदमाशों ने उसे रोका और मारपीट की। फिर उसके ऊपर कई राउंड फायर झोंक दिए। जिसमें एक गोली उसके पेट में और दूसरी हाथ में लगी। हमलावरों के भागते ही स्थानीय लोगों ने तुरंत गोलीकांड की सूचना पुलिस को दी। जिसके बाद आननफानन रोहित को जिला अस्पताल लाया गया। यहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया।

हत्या की खबर मिलते ही एसपी स्वप्निल ममगाईं, एएसपी नित्यानंद राय समेत कई आलाधिकारी मौके पर जांच करने पहुंचे। मृतक के चाचा कल्याण सिंह गांधी ने गुरुनानक नगर निवासी जसप्रीत सिंह, उसके पिता इंद्रपाल सिंह, ताऊ इंद्रजीत सिंह, गुलशन और महराजगंज के अदमपुर निवासी राजन सिंह के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।

पांच थानों की टीम दे रहीं दबिश

सीओ आरपी शाही ने बताया कि एक हत्यारोपित इंद्रजीत सिंह को पकड़ लिया गया। जसप्रीत और बाकी तीन की गिरफ्तारी के लिए एसओजी के साथ मिल एरिया, शहर कोतवाली, भदोखर, महराजगंज और हरचंदपुर पुलिस को लगाया गया है। जल्द ही इन्हें भी जेल भेजा जाएगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस