स्कूल में नही मिले गुरुजी, प्रधानाध्यापक समेत 12 का रोका वेतन

रायबरेली : परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए खंड शिक्षा अधिकारी और जिला समन्वयक ने निरीक्षण किया। इस दौरान स्कूलों से एक प्रधानाध्यापक, तीन सहायक अध्यापक, छह शिक्षामित्र, दो अनुदेशक नहीं मिले मिले। बीएसए ने सभी का अनुपस्थित दिवस का वेतन रोकते हुए तीन दिन में स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया। बीएसए के निर्देश विद्यालयों का निरीक्षण किया गया। इस दौरान गुरगुजपुर स्कूल की शिक्षामित्र गुड्डी रानी, भवानीगढ़ की सहायक अध्यापक सीमा मौर्या, देवगना के शिक्षामित्र राजनाथ, मिल्खा साहब की अनुदेशक किरन सिंह, गोपियापुर की शिक्षामित्र रीतू सिंह, मोहब्बत नगर के प्रधानाध्यापक मनोज कुमार सिंह, पड़रई की सहायक अध्यापक स्मिग्धा सिंह, भदोखर प्रथम की शिक्षामित्र गीता यादव, पूरे रेवती के शिक्षामित्र संतोष कुमार, गूढ़ा की अनुदेशक दीपशिखा वर्मा, भदोखर स्कूल की सहायक अध्यापक पूनम यादव, मछीजा की शिक्षामित्र अनामिका स्कूल से गायब रही। बीएसए ने सभी का एक दिन का वेतन रोकते हुए स्पष्टीकरण मांगा है। तीन दिनों में सभी को जवाब देना होगा। जवाब संतोषजनक न होने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। अग्रिम आदेश तक रोका वेतन डेपारमऊ प्राथमिक विद्यालय की इंचार्ज प्रधानाध्यापक शिल्पिका सिंह ने बीईओ को अवगत कराया कि सहायक अध्यापक ज्योति चौधरी चार से 16 जुलाई तक चिकित्सीय अवकाश पर थी। ज्योति चौधरी ने 20 जुलाई को विद्यालय आकर 18 व 19 जुलाई को हस्ताक्षर कर दिया, जबकि उस जगह पर चिकित्सीय अवकाश लिखा था। इस पर बीएसए ने उनका वेतन अग्रिम आदेश तक रोक दिया। इसके साथ ही साक्ष्य सहित स्पष्टीकरण भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। वर्जन, लगातार अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है। समय से स्कूल न पहुंचने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई तय है। चेकिंग अभियान अभी जारी रहेगा। शिवेंद्र प्रताप सिंह, बीएसए

Edited By: Jagran