संसू, डलमऊ (रायबरेली) : गदागंज थाना क्षेत्र के भोजराज का पुरवा से पांच दिन पहले गुमशुदा हुई विवाहिता का शव मंगलवार सुबह बरई नहर के किनारे सड़ी गली हालत में मिला। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। शिनाख्त के बाद उसका शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

भोजराज का पुरवा निवासी मुन्ना की शादी लगभग दो साल पहले दीनशाह गौरा ब्लाक के बरई गांव निवासी राम किशुन की बेटी ¨पकी (25) से हुई थी। छह सितंबर को मुन्ना काम-धाम के चक्कर में सूरत जाने के लिए घर से निकला। उसके जाने के बाद शाम के वक्त ¨पकी भी अकेले मायके जाने के लिए घर से चल दी। रास्ते में उसने एक बार अपनी मां से फोन पर बात भी की। उसके बाद से ¨पकी की कोई खोज-खबर नहीं मिली। मायके व ससुराल वाले लगातार उसकी खोजबीन कर रहे थे। हालांकि, ¨पकी की गुमशुदगी की सूचना पुलिस को नहीं दी गई थी। मंगलवार सुबह बरई गांव के ग्रामीण मवेशियों को लेकर नहर की तरफ पहुंचे। वहां खरपतवार के पास से दुर्गध आने पर ग्रामीणों ने नजदीक जाकर देखा तो वहां महिला की लाश पड़ी थी। सूचना पर गदागंज पुलिस मौके पर पहुंची। कुछ ही देर में वहां बड़ी संख्या में ग्रामीण इकट्ठा हो गए। ¨पकी के घरवाले भी घटनास्थल पर पहुंचे और शव की शिनाख्त की। थाना प्रभारी रवींद्र कुमार ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट होगा कि ¨पकी की मौत कैसे हुई। प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत हो रहा है।

Posted By: Jagran