जागरण संवाददाता, रायबरेली: शहर की सफाई व्यवस्था अब पहले से बेहतर होगी। इसके लिए पालिका ने तैयारी शुरू कर दी है। इतना ही नहीं कर्मचारियों को अब संसाधनों की कमी का दंश भी नहीं झेलना पड़ेगा। 15वें वित्त से बजट जारी कर दिया गया है। जल्द ही पालिका संसाधनों से लैश हो जाएगी।

नगर पालिका परिषद की करीब सवा दो लाख आबादी है। 34 वार्ड के सफाई का जिम्मा 424 कर्मियों पर है। इसमें से कई कर्मचारी दफ्तर में तैनात हैं। वार्डों में आठ से 10 सफाई कर्मी तैनात हैं। सीमित संसाधन होने के कारण सफाई व्यवस्था पटरी पर नहीं आ रही है। ऐसे में 15वें वित्त से बजट मिलने के बाद अब संसाधनों की कमी को दूर करने की तैयारी है।

नगर पालिका पर एक नजर

कुल आबादी- 2.25 लाख

वार्ड- 34

सफाई निरीक्षक- एक

सफाई कर्मी- 424

सीवर जेटिग मशीन 4000 लीटर- दो

इंजन चालित छोटी मशीन- दो

खरीद के लिए प्रस्तावित सामग्री

सीवर जेटिग मशीन 1500 लीटर- एक

पुकलैंड छोटी- एक

हाथठेलिया- 300

कंटेनर- 50

मडपंप- 19

जेसीबी बड़ी- एक

जेसीबी छोटी- एक

डंपर- दो

कूड़ा डिब्बा उठाने की गाड़ी छोटी- दो

कूड़ा डिब्बा उठाने की गाड़ी बड़ी- दो

नाला क्लीनिग मशीन- एक शहर को संवारने का पूरा प्रयास किया जा रहा है। सफाई व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए संसाधनों की कमी को दूर किया जाएगा। इसके लिए पर्याप्त बजट भी मिल गया है।

डॉ. आशीष कुमार सिंह, ईओ, नगर पालिका परिषद शहर को साफ-सुथरा रखना पहली प्राथमिकता है। इसी के तहत संसाधन खरीदे जा रहे हैं, ताकि संभावित कोरोना की तीसरी लहर में सफाई व्यवस्था को बेहतर बनाया जा सके।

पूर्णिमा श्रीवास्तव, अध्यक्ष नगर पालिका परिषद

Edited By: Jagran